अधूरे सेतु के निर्माण कार्य को पुरा कराने की मांग को लेकर कांग्रेस जनों का धरना प्रदर्शन

पुल निर्माण कार्य में हो रहा हैं सरकारी धन का भारी गमन, दुरूपयोग व बंदरबाट-विकास तिवारी

जौनपुर। जनपद में सेतु निर्माण के अधुरे पडे़ कार्य को पुरा कराने की मांग को लेकर आज कांग्रेस नेता विकास तिवारी ने क्षेत्रीय जनता के सहयोग से "फरियाद सुनों सरकार " के नारे के साथ सत्याग्रह प्रारम्भ किया व लम्बी पदयात्रा निकाली उस दौरान काफी क्षेत्रीय लोगों द्वारा जल में खड़ा होकर सेतु निर्माण कार्य अतिशीघ्र पूरा कराने की मांग किया गया तथा सम्बन्धित क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों व जिले के मंत्री गिरीशचन्द्र यादव को पत्रक देकर जनता की समस्या को देखते हुए अतिशीघ्र पुल निर्माण का कार्य पुरा कराये जाने की मांग की गयी। जिसपर जफराबाद विधायक हरेन्द्र प्रताप सिंह द्वारा विधानसभा में प्रश्न भी उठाया गया। 
बता दें बेलांव-पराऊगंज सम्पर्क मार्ग के मध्य गोमती नदी पर बनने वाले बीरमपुर-भडे़हरी सेतु का निर्माण कार्य वर्ष 2010-11 में प्रारम्भ हुआ उसी के साथ मई-पसेवां घाट सेतु,अखडो़ देवी घाट सेतु व धनेजा घाट सेतु का भी निर्माण कार्य प्रारम्भ हुआ जिसपर कई बार रिवाईज स्टीमेट भी आया लेकिन दस वर्ष से अधिक समय गुजर जाने के बाद भी पुल का निर्माण कार्य पुरा नही कराया जा सका।

सेतु निर्माण के लिए विकास तिवारी की अगुवाई में क्षेत्र की जनता द्वारा विगत 19 अगस्त 2019 को बडी़ संख्या में कलेक्ट्रेट परिसर जौनपुर में उपस्थित होकर जनपद के चार प्रमुख अधूरे पड़े पुलो के निर्माण के लिए मौन प्रदर्शन किया गया, साथ ही 19 नवम्बर 2019 को प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग उ0प्र0 सरकार नितिन रमेश गोकर्ण का घेराव कर ज्ञापन के माध्यम से दस वर्षो से अधूरे पड़े पुल निर्माण कार्य को पुरा कराने की मांग किया। प्रमुख सचिव ने सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों को मौके पर ही तलब करके उक्त सभी पुलो के संदर्भ में जानकारी लिया व रिवाइज स्टीमेट भेजने की बात कही साथ अतिशीघ्र पुल निर्माण कार्य पुरा करा लेने का आश्वसन दिया,उक्त पुल के निर्माण के संदर्भ में विकास तिवारी के ही नेतृत्व में क्षेत्र की जनता सेतु निर्माण की मांग को लेकर 26 नवम्बर 2019 को जनपद में मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि के रूप में आये आयुक्त ग्राम विकास एंव नोडल अधिकारी के.रविन्द्र नाईक से मिलकर शिकायत किया जिसपर आयुक्त के. रविन्द्र नाईक नें अर्जेंट मीटिंग काल किया और अतिशीघ्र पुल निर्माण कार्य पुरा करा लेने का भरोसा दिया। लेकिन आज भी जिले के उक्त सभी अधूरे पडे़ पुलो के पुनरीक्षित आगणन के प्रस्ताव को स्वीकृति मिली,जिसे आंदोलनरत ‌लोगो ने क्षेत्र की पीड़ित जनता के संघर्ष की जीत बताया।
बीरमपुर-भडेहरी घाट सेतु निर्माण कार्य पर माह 12/2017 तक रूपया 924.38 लाख व्यय कर भौतिक प्रगति 60 प्रतिशत प्राप्त कर लेने का दावा करने वाला सेतु निर्माण विभाग  27 मार्च 2020 को मूल स्वीकृत लागत रूपया 994.54 लाख की जगह 1596.82 लाख रूपया धनराशि प्राप्त करने के एक वर्ष से अधिक समय गुजर जाने के बाद भी पुल का निर्माण कार्य पुरा नही कर पायी है। आज भी पुल का भौतिक अवलोकन करने से यही लगता है कि पुल का 50 प्रतिशत ही निर्माण हो पाया है।
कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आज वीरमपुर-भडेहरी घाट पर पहुंचकर एक दिवसीय धरना दिया जिसमें भारी संख्या में ग्रामीण भी सम्मिलित हुए।

धरना प्रदर्शन को संबोधित करते हुए श्री तिवारी ने कहा कि पुल निर्माण की लागत में सरकार द्वारा भारी वृद्धि ‌कर दी गयी है लेकिन फिर भी निर्माण कार्य अधूरा पड़ा हुआ है जिम्मेदार लोग जनता की कमाई से बनने वाले पुल के पैसे में बंदरबाट कर रहे है तथा एक साजिश ‌के‌ तहत जान बुझकर पुल निर्माण में विलम्ब किया‌ जा रहा‌ है। जल्द ही कांग्रेस जिला मुख्यालय पर इस भ्रष्टाचार के‌ खिलाफ बड़ा आंदोलन करेगी जो काम दस करोड़ में पुरा हो जाना चाहिए था आज उसी काम के लिए लगभग 16 करोड़ रूपए अवमुक्त हुए एक वर्ष से अधिक समय बीत गया है लेकिन फिर भी पुल निर्माण का कार्य पुरा नही है। कार्यदायी संस्थान द्वारा सरकारी धन का भारी गमन किया गया है जिसकी जांच होकर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाही होनी चाहिए,सरकार कहती है की तीन वर्ष से ज्यादा कोई भी निर्माण कार्य लम्बित नही रहेगा लेकिन यह पुल निर्माण कार्य ‌दस वर्षों से लंबित हैं जिसकी सुधि सरकार नहीं ले रही हैं।उक्त प्रदर्शन में प्रमुख रूप से सूरज सिंह, अनिल सोनकर,डा.सन्तोष गिरि,आकाश सिंह,लालता चौधरी,आजाद कुरैशी, आशीष यादव, रामप्रवेश,रामआशीष यादव,डा. संतोष कन्नौजिया, अशोक शुक्ला,बृजेश चौबे, अंकित सिंह,अमित सिंह, संतोष विश्वकर्मा,मदन सिंह,निशांत सिंह,किसन सिंह, सुमित सिंह, कुलदीप यादव, रविशंकर गुप्ता, संतोष नागर,विवेक यादव, कृष्ण कुमार, संतोष कुमार,किशन विश्वकर्मा आदि उपस्थित रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात

सीएम योगी के एक ट्वीट से लखनऊ का नाम बदलने की सुगबुगाहट, जानें क्या हो सकता है नया नाम