नशा उन्मूलन की दिशा में अभियान चलाये रचनात्मक संस्था गीतांजलि - गिरीश चन्द्र यादव


50वें शपथ ग्रहण समारोह में नव चयनित पदाधिकारियों को दिलायी गयी शपथ

जौनपुर। समाजिक संस्था गीतांजलि के स्वर्ण जयंती वर्ष पर पदाधिकारियों के 50वें शपथ ग्रहण समारोह में बतौर मुख्य अतिथि प्रदेश सरकार के आवास एवं शहरी नियोजन राज्यमंत्री गिरीश चन्द्र यादव ने नव निर्वाचित पदाधिकारियों को शपथ दिलाने के पश्चात अपने संबोधन में कहा कि यह संस्था सन् 1972 से लगातार एक परिवार के रूप में समाजसेवा से लेकर रचनात्मक कार्यो को कर रही है। इस संस्था को एक और जन हित के गुरूत्तर दायित्व का निर्वहन करना चाहिए। वह कार्य है नशा मुक्ति का इस काम को करते हुए समाज को नशा मुक्त बनाया जाना चाहिए। साथ ही यह भी अपील किया कि पहले संस्था लोग खुद नशे का परित्याग कर संदेश दें और समाज को नशा मुक्त करायें। इसी के साथ वृक्षारोपण अभियान की चर्चा करते हुए मंत्री ने कहा कि शुद्ध पर्यावरण के लिए वृक्षारोपण बेहद जरूरी हो गया है इसलिए संस्था को इस दिशा में भी पहल करनी चाहिए। क्योंकि अभी चन्द्र समय पहले ही आयी कोराना महामारी के समय आक्सीजन की खासी आवश्यकता महसूस की गयी। वृक्ष तो जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण हो गया है।


इसी क्रम में जनपद के विकास की चर्चा करते हुए कहा कि इस गीतांजलि के कार्यक्रम में जनपद के प्रबुद्ध जन उपस्थित है इसलिए बताना चाहता हूँ कि जनपद जौनपुर को बहुत जल्द ही एक केन्द्रीय विद्यालय मिलने जा रहा है जमीन का चिन्हीकरण भी हो चुका है। जिले से प्रस्ताव जाने की देर है। यह विद्यालय होने से जनपद के आने वाली पीढ़ी का शैक्षिक स्तर बेहद अच्छा हो सकेगा।
इस कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित डा आर एन त्रिपाठी एवं टीडी पीजी कॉलेज की पूर्व प्राचार्य सरोज सिंह ने संस्था के कार्यो और दायित्वो के बिषय में चर्चा करते हुए कहा कि गीतांजलि का जब से गठन हुआ है यह संस्था रचनात्मक कार्यो को करते हुए सभी तरह की दैवी आपदाओ में समाज की सेवा करने का काम किया है। इसके अलांवा मां भगवती दुर्गा पूजनोत्सव की शुरुआत किया और आज पूरे शारदीय नवरात्रि तक पूरा जनपद मां दुर्गा मय हो जाता है।हर तरफ गांव से लेकर शहर कस्बा हर जगह माता रानी के पूजनोत्सव की धूम रहती है। इसकी शुरुआत जनपद में गीतांजलि ने किया था।
समारोह का शुभारंभ वंदे मातरम के शंखनाद एवं सरस्वती वंदना के साथ दीप प्रज्वलित और ठाकुर रविंद्र नाथ टैगोर  एवं संस्थापक स्वर्गीय राजेंद्र बेदी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करने के साथ किया गया। समारोह के अतिथियों को स्मृति चिन्ह के रूप में पर्यावरण का प्रतीक वृक्ष एवं अंगवस्त्रम प्रदान कर स्वागत किया गया। इस अवसर पर नव चयनित अध्यक्ष डॉ ब्रम्हेश शुक्ला सहित संस्था के सभी पदाधिकारियों ने पद एवं गोपनियता की शपथ लिया। कार्यक्रम का संचालन संस्था के पूर्व अध्यक्ष महेन्द्र देव विक्रम द्वारा किया गया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ