शिक्षक ने अपने छात्रा से रचा ली शादी, दो साल बाद शिक्षक पहुंचा सलाखों के पीछे, जानें पूरी घटना



जनपद वाराणसी के चोलापुर थाना क्षेत्र की अधीनस्थ चौकी अजगरा अंतर्गत नियारडीह ग्राम निवासी व्यक्ति ने बीते वर्ष 2019 में अपनी नाबालिग पुत्री (छात्रा) को स्थानीय विद्यालय में पढ़ाने वाले शिक्षक द्वारा अपहरण किए जाने का आरोप लगाते हुए चोलापुर थाने में आरोपी शिक्षक धर्मेंद्र विश्वकर्मा के विरुद्ध आईपीसी की धारा 363, 366, 506, 120बी व पाक्सो के तहत मुकदमा दर्ज कराया था।
हालांकि, पुलिस ने इस मामले में कई बार नोटिस चस्पा करने के साथ ही कुर्की की भी कार्यवाही की। महिला आयोग के हस्तक्षेप के बाद आरोपी शिक्षक के विरुद्ध 10000 रुपये का इनाम भी घोषित किया गया। लगभग दो वर्ष तक परिजन थाने से लेकर आला अधिकारियों के चक्कर लगाते रहे लेकिन पुलिस नाबालिक एवं आरोपी का पता नहीं लगा सकी। रविवार को इंटरनेट मीडिया पर शादी की तस्वीरें एवं वायरल मैरिज सर्टिफिकेट के अनुसार लगभग एक माह पूर्व लड़की के बालिग होने के बाद दोनों ने कोर्ट मैरिज कर लिया।
इस बाबत पुलिस और परिजनों की तलाश लगातार जारी थी। मगर इंटरनेट पर तस्‍वीरें वायरल होने के बाद मामले की जानकारी हो गई। हालांकि, इसकी पड़ताल करने के बाद भी शिनाख्‍त नहीं हो पा रही थी। इसके बाद परिजन भी पुलिस की सुस्‍त कार्य प्रणाली से निराश हो चुके थे। अब आरोपित को सामने आने के बाद परिजनों के होश उड़ गए हैं। शिक्षक की छात्रा संग शादी का मामला सामने आने के बाद अब क्षेत्र में प्रकरण की खूब चर्चा रही। 
रविवार को आरोपी शिक्षक अपनी प्रेमिका के साथ चोलापुर थाने में आत्मसमर्पण करते हुए बताया कि दोनों बालिग हैं और उन्होने शादी कर ली है। पुलिस ने आरोपी शिक्षक धर्मेंद्र विश्वकर्मा पुत्र स्व. काशीनाथ विश्वकर्मा निवासी उधोरामपुर (चोलापुर) को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस के अनुसार इस मामले में आरोपित की लंबे समय से तलाश की जा रही थी। कोर्ट मैरिज करने के बाद आरोपित शिक्षक ने थाने पहुंचकर इस मामले की जानकारी दी तो पुलिस के होश उड़ गए। इसके बाद आरोपित शिक्षक को पुलिस ने न्‍यायालय में पेश कर जेल भेज दिया।   

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन