सामूहिक दुष्कर्म मामले में कोर्ट में पेश हुए ब्लॉक प्रमुख, डीएनए जांच के लिए लिया गया सैंपल


महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में भदोही जिले के ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्र के भतीजे और डीघ ब्लॉक प्रमुख मनीष मिश्र मंगलवार को एडीजे द्वितीय एससी-एसटी कोर्ट में पेश हुए। डीएनए जांच के लिए उनका ब्लड सैंपल लिया गया। इसको लेकर परिसर के बाहर गहमागहमी रही।
प्रयागराज जिले के हंडिया क्षेत्र की रहने वाली एक महिला ने बीते दिनों पुलिस अधीक्षक को प्रार्थना पत्र देकर आरोप लगाया था कि वह सड़क के किनारे वाहन का इंतजार कर रही थी। उसी दौरान डीघ ब्लॉक प्रमुख मनीष मिश्रा किसी कार से आए और अपने गांव ले गए। घटना मार्च 2019 की है।
आरोप है कि घर पर गेहूं साफ कराने और फिर से गाड़ी से भेजने का भरोसा देकर मनीष व उनके साथी ने गाड़ी में बैठा लिया। नवधन के पास एक मकान में ले गए और कमरे में ले जाकर मनीष व उनके साथी सुरेश केसरवानी ने दुष्कर्म किया। आरोप है कि वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने की धमकी भी देने लगे।
पीड़िता ने आरोप लगाया कि उस घटना के बाद जान से मारने, वीडियो वायरल करने की धमकी देकर दो अन्य साथियों के साथ सीतामढ़ी क्षेत्र में ले जाकर दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया। उसी आधार पर मनीष मिश्रा, सुरेश केसरवानी व दो अन्य के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म, एसएसी-एसटी एक्ट में मुकदमा दर्ज हुआ।
केस दर्ज होने के एक दिन पूर्व ही उन्हें वाराणसी की भोजपुरी गायिका को धमकाने के मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया था। वर्तमान में वह वाराणसी जेल में है। शासकीय अधिवक्ता अनिल शुक्ला ने पीड़िता की ओर से पैरवी की।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर में आज फिर तड़तड़ायी गोलियां एक की मौत दूसरा घायल पहुंचा अस्पताल,छानबीन मे जुटी पुलिस

बिजली कर्मियों हड़ताल को देख, वितरण व्यवस्था संचालन हेतु नोडल और सेक्टर अधिकारी नियुक्त

जानिए मुर्गा काटने के दुकान से कैसे मिला गुड्डू की लाश,पुलिस कर रही है जांच