24 से 48 घन्टे के अन्दर पूर्वांचल में एक बार फिर दिखेगा पश्चिमी विक्षोभ का असर


पूर्वांचल में मौसम का रुख लगातार बदलाव की ओर पखवारे भर से बना हुआ था। अब मौसम का रुख और भी चुनौती देने की ओर होने जा रहा है। सर्द गर्म और कोहरे के साथ ही वायु प्रदूषण के तल पर आने की वजह से मौसमी बीमारियां भी सिर उठाने की ओर हैं। कोरोना संक्रमण के दौर में यह स्थिति काफी चुनौतीपूर्ण होने की ओर है। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में मौसम का रुख और भी बदलेगा जिससे गलन के साथ ही कोहरा और बदली का दौर पश्चिमी विक्षोभ की वजह से हुआ तो मौसमी बीमारियां और भी सिर उठाएंगी। वातावरण में बदलाव का दौर आने की वजह से मौसम का मिला जुला दौर इन दिनों देखने को मिल रहा है। 

बीते चौबीस घंटों में अधिकतम तापमान 21.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य से एक डिग्री कम रहा। न्‍यूनतम तापमान 11.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य से दो‍ डिग्री अधिक रहा। आर्द्रता इस दौरान अधिकतम 88 और न्‍यूनतम 77 फीसद दर्ज की गई। मौसम विभाग की ओर से जारी सैटेलाइट तस्‍वीरों में पश्चिमी विक्षोभ का झोंका पाकिस्‍तान के रास्‍ते आने की तैयारी में है। इसका असर पूर्वांचल तक आने पर गलन और कोहरे के साथ ही बदली और बूंदाबांदी का भी दौर आ सकता है। जबकि आने वाले दिनों में मौसम का रुख इसकी वजह से उतार चढ़ाव का बना रहेगा। अगले 24- 48 घंटों में पश्चिमी विक्षोभ का असर पूर्वांचल में आ जाएगा। 

मौसम विज्ञानी मान रहे हैं कि मौसमी बदलाव का यह दौर माह भर और रहेगा। इसके बाद पूर्वांचल में बसंती हवाएं मार्च माह तक के लिए काबिज रहेंगी। इसके बाद अप्रैल माह के दूसरे पखवारे से गर्म हवाएं काबिज होंगी जो मध्‍य जून तक दुश्‍वारियां देती रहेंगी। हालांकि, उससे पूर्व ठंडक का यह दौर लोगों को पर्याप्‍त राहत प्रदान करेगा। इस दौरान मौसमी बदलाव के साथ बूंदाबांदी की चुनौती खेतों में बनी रहेगी। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर में बसपा को जोर का झटका करीने से, डॉ जेपी सिंह ने सुभासपा किया ज्वाइन

यूपी: भाजपा ने जारी किया पहले और दूसरे चरण में चुनाव के प्रत्याशियों की सूची,योगी जी लड़ेंगे गोरखपुर से ,देखे सूची

मल्हनी विधायक लकी यादव एवं उनके एक दर्जन समर्थको पर बक्शा थाने में दर्ज हुआ मुकदमा