जौनपुर में आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर पहला मुकदमा दर्ज, कांग्रेस नेता ने उड़ाई आयोग के निर्देश की धज्जियां

 

जौनपुर। विधानसभा चुनाव के घोषणा के बाद जनपद जौनपुर में कांग्रेस नेता द्वारा आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की पहली घटना सामने आई है। आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का वीडियो वायरल होते ही पुलिस ने भी आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का पहला मुकदमा भी पंजीकृत करते हुए विधिक कार्यवाई सुनिश्चित किया है। कांग्रेस नेता के द्वारा आचार संहिता के उल्लंघन की घटना जहां जिले में चर्चा का बिषय बना है वहीं पर प्रशासन भी सतर्क होते हुए कड़ा रूख अख्तियार कर आयोग की मंशा का संकेत दे दिया है। 

यहां बता दें कि आयोग द्वारा चुनाव की घोषणा और आदर्श आचार संहिता लगाने के बाद 09 जनवरी 22 को कांग्रेस के नेता एवं जौनपुर सदर विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक नदीम जावेद  अचानक जनपद जौनपुर के थाना एवं तहसील शाहगंज क्षेत्र में पांच गाड़ियों के काफिले के साथ हूटर बजाते हुए गाड़ियों पर कांग्रेस का बड़ा झन्डा लगाये चुनाव प्रचार करते हुए नजर आये उनका काफिला शाहगंज थाना क्षेत्र के अयरमानिस ढाबा पर जा कर रूका जहां पर बड़ी तादाद में लोग मौजूद थे। वाहन से नीचे उतरते ही नदीम चुनावी परिचर्चा में मशगूल हो गये। ढाबे पर एक मिटिंग भी किया। 

इसका वीडियो वायरल होते ही पुलिस सक्रिय हो गयी और वीडियो की सच्चाई का पता लगाया। घटना सही होने पर धारा 188, 133 आरपी एक्ट, 1951, 176 के तहत अभियोग पंजीकृत किया, मुकदमा वादी कोतवाल शाहगंज बने। पुलिस का कथन है कि नदीम जावेद के पास पार्टी का झण्डा लगाकर काफिला में चलने का कोई परमीशन नहीं था न ही हूटर बजाने अथवा बैठक की कोई सरकारी स्वीकृति थी। इतना ही नहीं नदीम जावेद ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने के साथ कोविड गाइड लाइन का भी खुला उल्लंघन किया है। जिसके कारण उनके खिलाफ विधिक कार्यवाई की गयी है। 


नदीम जावेद द्वारा उल्लंघन करने के बाद जिला प्रशासन खासा शख्त हो गया है जिला निर्वाचन अधिकारी/ जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने कहा कि कोई कितना भी ताकतवर नेता हो उसे आयोग द्वारा तय की गई गाइडलाइन के परिधि में रहना होगा आचार संहिता का उल्लंघन करने पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जायेगी। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर रात एक छात्रा को बंगले पर भेजो'SDM पर महिला हॉस्टल की अधीक्षीका ने लगाया 'गंदी डिमांड का आरोप; अधिकारी ने दी सफाई

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर

महज 20 रूपये के लिए रेलवे से लड़ा 22 साल मुकदमा और जीता,जानें क्या है मामला