बोर्ड परीक्षा पेपर लीक कांड का मास्टरमाइंड निकला एक विद्यालय का प्रबन्धक, गिरफ्तार गया जेल


यूपी बोर्ड परीक्षा में इंटर का अंग्रेजी पेपर लीक मामले के पांचवें दिन रविवार को पुलिस ने मास्टरमाइंड निर्भय नारायण सिंह को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही साल्वर अंग्रेजी शिक्षक अविनाश गौतम को भी दबोच लिया है। पकड़े गए मास्टरमाइंड द्वारा इंटर अंग्रेजी के साल्व पेपर को 25 से 30 हजार प्रति छात्र बेचा गया। दोनों की गिरफ्तारी को बलिया पुलिस बड़ी कामयाबी मान रही है। इसके बाद प्रशासन ने भी राहत की सांस ली है।
पेपर लीक मामले को लेकर पिछले पांच दिन से बलिया प्रशासन की पूरे प्रदेश में जमकर किरकिरी हुई है। इस प्रकरण में जिला विद्यालय निरीक्षक बृजेश कुमार मिश्रा के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करते हुए उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें जेल भेजा जा चुका है। प्रकरण में पकड़ा गया मास्टरमांइड निर्भय नारायण सिंह महाराजी देवी स्मारक इंटर कालेज का प्रबंधक हैं।
मामले में पुलिस ने लीक पेपर की फोटो कापी करने वाले राजीव प्रजापति और साल्वर अविनाश गौतम, जो सुभाष इंटर कालेज ताड़ीबड़ागांव के अंग्रेजी का शिक्षक है, समेत अब तक कुल 46 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार 30 मार्च को भीमपुरा थाना के किड़िहरापुर स्थित परीक्षा केंद्र महाराजी देवी स्मारक इंटर कालेज के प्रबंधक निर्भय नारायण सिंह ने ही प्रश्नपत्र को समय से पहले ही निकाल लिया। कंप्यूटर कार्य करने वाले राजीव प्रजापति ने फोटो कापी कर अंग्रेजी शिक्षक अविनाश गौतम तक पहुंचा दिया। यहां से कुछ ही मिनटों में इसके हल प्रश्नपत्र को फिर से निर्भय नारायण सिंह को उपलब्ध कराया गया जिसे प्रत्येक छात्र 25 से 30 हजार रुपये में जमकर बेचा गया। हल प्रश्नपत्र को मुलायम चौहान, मनीष चौहान व बृजेश चौहान द्वारा उत्तर पुस्तिकाओं पर लिखवाया गया।
यूपी बोर्ड परीक्षा में 12वीं के अंग्रेजी विषय का पर्चा लीक होने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। परीक्षा शुरू होने के बाद मामला प्रकाश में आने पर 24 जिलों में परीक्षा निरस्त कर दी गई थी। जिले के 211 परीक्षा केंद्रों से पेपर के लिफाफे जिला प्रशासन के द्वारा तत्काल जमा कराए गए थे। जांच में सभी परीक्षा केंद्रों के लिफाफे सही मिलने की बात कही जा रही है। ऐसे में अब सवाल यह उठने लगा है कि पर्चा लीक कहां से हुआ। इस प्रकरण में जिला प्रशासन के अलावा एसटीफ की टीम भी असल मास्टरमाइंड तक पहुंचने में लगी है, लेकिन वह अभी भी पकड़ से बाहर ही दिख रहा है।
चार दिन बीत जाने के बाद भी इस प्रकरण का राजफाश नहीं किया जा सका। आगे की परीक्षा के लिए व्यवस्था में बदलाव किया गया है। 24 घंटे परीक्षा केंद्रों की निगरानी के लिए बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों की डयूटी लगाई गई है। परीक्षा का पेपर भेजवाने में भी काफी सतर्कता बरती जा रही है, लेकिन पर्चा किसने लीक किया, यह सवाल अभी भी प्रशासन कर पीछा नहीं छोड़ रहा है। प्रशासन की यह सतर्कता देख सभी लोग यही बात बोल रहे हैं कि यदि पहले से ही इतना सतर्क प्रशासन होता तो पर्चा लीक होने के मामले में जिला भी कलंकित नहीं होता। पर्चा लीक होने के मामले आगे चाहे जो तथ्य सामने आए, लेकिन परीक्षा का यह स्वरूप देख जिले में पूरे सिस्टम के बारे में तरह-तरह की चर्चा हो रही है।
आज से मुख्य विषयों की परीक्षा, रहेगी चुनौती
सभी परीक्षा केंद्रों पर मुख्य विषयों की परीक्षा में कक्ष के अंदर कक्ष निरीक्षक तो बाहर में प्रशासन को ज्यादा परेशान होना पड़ता है। सोमवार को यानि आज प्रथम पाली में 10वीं के विज्ञान और द्वितीय पाली में 12वीं के जीवविज्ञान व गणित की परीक्षा है। जिला प्रशासन की ओर सख्ती बढ़ाई गई है, फिर भी चुनौती कम नहीं है। अब तक की परीक्षा में खेजुरी के विद्यालय में पहले ही दिन सामूहिक नकल का मामला प्रकाश में आया था। कुछ जगहों पर दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने वाले छात्र भी पकड़े गए थे। अधिकांश विद्यालयों के सीसीटीवी कैमरा बिजली से ही संचालित हैं। खुद के जरनेटर की व्यवस्था नहीं है। लाइन कटने के बाद सीसीटीवी कैमरे बंद हो जाते हैं। ऐसे में कक्ष के अंदर की गतिविधियां क्या होंगी, सहज अनुमान लगाया जा सकता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन