मेडिकल स्टोर से बरामद सरकारी दवाओ के मामले की जांच रिपोर्ट पहुंची डीएम के पास, तीन कर्मचारियो पर गिरेगी गाज


जौनपुर। विगत माह सिद्दीकपुर स्थित एक मेडिकल स्टोर और मकान में भारी मात्रा में मिली दवाइयों पर जिला अस्पताल मार्का (मुहर) लगी थी। इस मामले में मुकदमा दर्ज कराने के बाद जांच कर रहे ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने अपनी रिपोर्ट जिलाधिकारी को प्रेषित कर दी है। रिपोर्ट में जांच अधिकारी ने तीन फार्मासिस्ट के निलंबन की संस्तुति की है।
इसके साथ ही जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्साधीक्षक की कार्य प्रणाली पर सवाल खड़ा कर दिया है उन्होंने अपनी रिपोर्ट में कहा कि सीएमएस ने अपने दायित्वों का निर्वहन में लापरवाही बरती है।ज्वाइंट मजिस्ट्रेट को सूचना मिली थी कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के सामने स्थित आरएम मेडिकल स्टोर संचालक सरकारी अस्पतालों में आपूर्ति की गई दवाओं को नीमहकीम और ग्रामीण क्षेत्र की दुकानों पर बेचता है।
इस कारोबार में स्वास्थ्य विभाग के कई कर्मचारी और अधिकारियों की भी संलिप्तता है। चार जून को छापा मारकर मेडिकल स्टोर और मकान से लाखों रुपये की सरकारी दवा बरामद किया गया था। मामले में दो लोगों के खिलाफ सरायख्वाजा थाने में मुकदमा पंजीकृत कराया गया था।
पूरे प्रकरण की जांच के लिए ज्वाइंट मजिस्ट्रेट हिमांशु नागपाल को जिम्मेदारी सौंपी गई थी, जिन्होंने जांच के बाद अपनी रिपोर्ट जिलाधिकारी को प्रेषित कर दिया है। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने बताया कि जांच के दौरान पकड़ी गई दवाइयों पर जिला अस्पताल की मुहर लगी थी। इसके साथ ही जांच में जिला चिकित्सालय के फार्मासिस्ट संजय कुमार सिंह, वीरेंद्र मौर्य और अखिलेश कुमार उपाध्याय की संलिप्तता पाई गई है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर रात एक छात्रा को बंगले पर भेजो'SDM पर महिला हॉस्टल की अधीक्षीका ने लगाया 'गंदी डिमांड का आरोप; अधिकारी ने दी सफाई

यूपी कैबिनेट की बैठक में जौनपुर की इस नगर पालिका के विस्तार का प्रस्ताव स्वीकृत

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर