नार्वे में हिंदी की अलख जगा रहे प्रवासी भारतीय सुरेशचन्द्र शुक्ल - डा ब्रजेश यदुवंशी



जौनपुर । सिविल लाइन स्थित एक होटल‌ में‌ प्रख्यात प्रवासी साहित्यकार सुरेश चन्द्रशुक्ल 'शरद आलोक' का स्वागत एवं अभिनन्दन समारोह के दौरान आयोजक डा. ब्रजेश यदुवंशी ने माल्यार्पण कर अंगवस्त्रम, एवं स्मृति चिन्ह प्रदान कर किया स्वागत। इस मौके पर सुरेशचन्द्र  शुक्ल ने अपने उद्बोधन में कहा कि वैश्विक स्तर पर हिंदी की मांग बढ़ी है , हिंदी भाषा ने निपुणता हो तो विश्व स्तर पर पहचान बनाने के साथ ही मातृभाषा को समृद्ध किया जा सकता है । 
अपने सम्बोधन में डा. ब्रजेश यदुवंशी ने कहा कि सुरेशचन्द्र शुक्ल हिंदी जगत के वैश्विक मशाल वाहक हैं। श्री शुक्ल विश्व हिंदी सम्मेलन लंदन व मारीशस से सम्मानित प्रख्यात साहित्यकार हैं, आपकी दो दर्जन से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हैं। श्री शुक्ल की कोरोना काल में लिखी गई मानवीय संवेदनाओं से ओतप्रोत पुस्तक 'लाकडाउन ' विश्व पटल पर पहचान बनाने में कामयाब रही । 
स्वागत की कड़ी में सभाजीत द्विवेदी प्रखर ने शीष आदर्श का बोझ लादे हुए , पांव गन्तव्य की ओर बढ़ता रहा , मैं जहां से चला था वहीं रह गया, जबकि अबिराम वर्षो से चलता रहा सुनाकर माहौल को सोचने पर मजबूर कर दिया‌ । डा. प्रमोद वाचस्पति ने हर कदम फूंक-फूंक रखना, ठोकरें हैं बहुत जमाने में, दोस्ती का भरम बना ही रहे , टूट जाता है आजमाने में  सुनाकर सामाजिक संदेश दिया । मौके पर  पत्रकार  विद्याधर राय विद्यार्थी, कृष्ण मुरारी मिश्रा, आशीष यादव, अभिषेक यादव, अमन, अमित , धर्मेन्द्र, उमेश , मुकेश प्रजापति, शीश यादव, राजा यादव, जितेंद्र यादव,  श्रीकांत, अमर सिंह, अनिल केशरी, रोहित, सचिन, आदि ने उपस्थित रहे । कार्यक्रम का संचालन सभाजीत द्विवेदी प्रखर ने किया । अंत में आये हुए लोगों का स्वागत व आभार शैलेन्द्र सिंह ने किया ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मौसम विभाग का एलर्ट इन 23 जिलो में हवाओ के साथ होगी बरसात

दुर्गा पूजा पंडाल में लगी आग छ: की मौत 50 से अधिक झुलसे सभी बीएचयू ट्रामा सेंटर रेफर

खाकी वर्दी में घूम रहा नकली फर्जी, जालसाज इंस्पेक्टर गिरफ्तार, लड़क‍ियों की श‍िकायत