अशोका इंस्टीट्यूट में महा-रक्तदान, बड़ी संख्या में छात्र छात्राओं सहित शिक्षक एवं प्रबंधन ने किया रक्तदान,लिया जनसेवा का संकल्प


वाराणसी। अशोका इंस्टीट्यूट आफ इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट में गुरुवार महा-रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। स्टूडेंट्स ने बड़े पैमाने पर रक्तदात करते हुए देश सेवा का संकल्प लिया। शिविर का उद्घाटन करते हुए वाइस चेयरमैन अमित मौर्य ने कहा कि रक्तदान भी देश सेवा ही है। यह जरूरी नहीं है कि हम प्रत्यक्ष रूप से किसी समाजसेवी संस्था से जुड़ें। बगैर किसी सरकारी अथवा निजी सामाजिक संस्था से जुड़े भी हम देशसेवा कर सकते हैं।
रक्तदान को सबसे बड़ा दान बताते हुए श्री मौर्य ने यह भी कहा रक्तदान जीवनदान है। रक्तदान समाज में आपातकालीन परिस्थितियों मे देश के नागरिकों और सैनिकों के जीवन का रक्षा करता है। कहा कि एक यूनिट रक्तदान से चार लोगों की जान बचाई जा सकती है। अधिक से अधिक लोगों को रक्तदान करना चाहिए। एक यूनिट रक्तदान से देने वाले का कुछ नहीं बिगड़ता, लेकिन किसी के चेहरे पर खुशी आ जाती है।
अशोका प्रौद्योगिकी एवं प्रबंधन संस्थान में फार्मेसी विभाग के प्रिंसिपल डा.बृजेश सिंह ने कहा कि नियमित रक्तदान से कैंसर का खतरा कम हो जाता है। हार्टअटैक की आशंका कम होती है और खून की भी नि:शुल्क जांच हो जाती है। इससे बड़ा पुण्य का काम कोई नहीं है। उन्होंने कहा कि आज भारत में समय पर खून न मिलने से मरीजों की होने वाली मौत की दर काफी अधिक है। इसे कम करने के लिए हर स्वस्थ व्यक्ति को रक्तदान जरूर करना चाहिए।
रक्तदान शिविर का आयोजन अशोका इंस्टीट्यूट के अलावा सुरभि चैरिटेबल ट्रस्ट, काशी रक्तदान-नेत्रदान कुटुंब, अशोका इंस्टीट्यूट आफ बिजनेस ने संयुक्त रूप से किया था। इस मौके पर बीएचयू के शिवप्रसाद गुप्त चिकित्सालय, श्री शिवप्रसाद गुप्त मंडलीय चिकित्सालय कबीरचौरा के अलावा पंडित दीनदयाल जिला अस्पताल के चिकित्सक उपस्थित थे। अशोका इंस्टीट्यूट के वाइस चेयरमैन के अलावा डा.बृजेश सिंह, पंकज गौतम, निकिता, अविरल उपाध्याय, वैभव सिंह, प्रतीक मिश्र, मो.आरिफ, जीतेश गुप्ता, विशाल पटेल, अभिषेक मौर्य, अंगद यादव, अनुराग पाल, आशीष त्रिपाठी, शिव कुमार पटेल समेत बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स ने रक्तदान किया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भीषण सड़क दुर्घटना में दस लोगो की मौत दो दर्जन गम्भीर रूप से घायल, उपचार जारी

यूपी में जौनपुर के माधोपट्टी के बाद संभल औरंगपुर जानें कैसे बना आइएएस आइपीएस की फैक्ट्री

जानिए इंटर के छात्र ने प्रधानाचार्य को गोली क्यों मारी, हालत नाजुक, छात्र पुलिस पकड़ से दूर