अशोका इंस्टीट्यूट और सोनभद्र राजकीय इंजीनियरिंग कालेज के बीच एमओयू, शैक्षणिक गतिविधियों का होगा आदान-प्रदान



 
वाराणसी। इंजीनियरिंग और प्रबंधन की शिक्षा देने वाले पूर्वांचल के अग्रणीय संस्थान अशोका इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी एंड मैनेजमेंट (Ashoka Institute Of Technology And Management) और सोनभद्र के चुर्क स्थित राजकीय इंजीनियरिंग कालेज के बीच बुधवार को एक एमओयू हुआ। दोनों इंजीनियरिंग कालेजों के निदेशक क्रमशः डा.सारिका श्रीवास्तव और प्रोफेसर जीएस तोमर ने एमओयू पर हस्ताक्षर किया। इस का मकसद अकादमिक क्षेत्र के विभिन्न गतिविधियों का आदान-प्रदान है।
अशोका इंस्टीट्यूट की निदेशक डा.सारिका श्रीवास्तव ने इस मेमोरेडम के तहत दोनों कॉलेज अपनी-अपनी विशेष गतिविधियों का आदान-प्रदान कर सकेगें। इसके तहत दोनों कालेजों के शिक्षक और स्टूडेंट्स एक दूसरे के संस्थान में जाकर ज्ञान बांटेंगे। साथ ही एंटरपेन्योर और स्टार्टअप में सहययोग देंगे। कांफ्रेंस, फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम, ट्रेनिंग, वर्कशाप आदि पर मिलकर काम करेंगे। दोनों इंजीनियरिंग कालेज सहभागिता में आइडिया फार्मुलेशन और प्रोटो टाइपिंग बिजनेस प्लान, नए इनोवेशन का पेटेंट को साझा प्रयास से अमलीजामा पहनाएंगे।
डा.श्रीवास्तव ने बताया कि सोनभद्र स्थित राजकीय इंजीनियरिंग कालेज के  शिक्षक एवं छात्र हमारे यहां आकर लाभ उठा सकेंगे। दोनों ही कॉलेज उत्तर प्रदेश के महत्वपूर्ण इंजीनियरिंग कॉलेज हैं। संयुक्त रूप से दोनों ही कॉलेज सेमिनार, कॉन्फेरेंस, वर्काशॉप आदि का आयोजन कर सकेंगे। इसके अलावा दोनों ही कॉलेज के जो अलग-अलग विशिष्ट कार्यक्रम होते हैं उनमें दोनों जगहों के शिक्षक एवं छात्र सम्मलित हो सकेंगे।
अशोका इंस्टीट्यूट की निदेशक डा.सारिका ने बताया कि इस एमओयू से कॉलेज के इलेक्ट्रिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग एवं इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन्स इंजीनियरिंग के छात्रों को काफी फायदा होगा। उन्होंने कहा कि यह समझौता हम दोनों के लिए काफी उपयोगी सिद्ध होगा। दोनों संस्थान मिलकर 29 और 30 जुलाई 2023 को अंतर्राष्ट्रीय कांफ्रेंस का आयोजन करेंगे।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?