केन्द्र सरकार के नौ साल पूरा होने पर प्रधानमंत्री मोदी देश में रैली कर करेंगे चुनावी शंखनाद,जानें क्या रहेगा कार्यक्रम

केन्द्र की मोदी सरकार 2.0 के नौ वर्ष का कार्यकाल पूरा होने के उपलक्ष्य में भाजपा एक महीने तक प्रदेश भर में कार्यक्रम आयोजित करेगी। प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी देश में रैलियां कर चुनावी शंखनाद करेंगे, इनमें तीन रैलियां उत्तर प्रदेश में करने की योजना है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी और महामंत्री संगठन धर्मपाल सिंह ने रविवार शाम पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों की वर्चुअल बैठक में इसकी जानकारी दी।
नगर निकाय चुनाव में जीत का परचम फहराने के साथ ही भाजपा लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुट गई है। मोदी सरकार के नौ वर्ष का कार्यकाल 30 मई को पूरा हो रहा है। मोदी सरकार के नौ वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में भाजपा प्रदेश में महा सपंर्क अभियान चलाएगी। 15 मई से 15 जून तक मोदी सरकार की उपलब्धियों को लेकर जनता के बीच जाएंगे। भाजपा के नेता प्रदेश से लेकर जिला स्तर पर प्रबुद्ध वर्ग के लोगों से संपर्क कर मोदी सरकार में हुए बदलाव को बताएंगे। लोकसभा स्तर पर पांच और विधानसभा स्तर पर चार अलग-अलग कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रमों के लिए प्रदेश महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला और संजय राय की अगुवाई में कमेटी गठित की गई है।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने निर्देश जारी किया है कि 25 मई तक में क्षेत्र व जिला कार्यसमिति की बैठकों का आयोजन किया जाये। कार्यसमिति में सभी विधायक और सांसद भी शामिल किए जाएंगे। बैठक में बताया गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जून में देश भर में करीब 20 रैलियां करेंगे। यूपी में अवध, काशी, पश्चिम, कानपुर, ब्रज और गोरखपुर क्षेत्र में मोदी की एक एक रैली कराने की योजना है। 
छह रैली का समय नहीं मिलने पर दो-दो क्षेत्रों की एक संयुक्त रैली कराकर तीन रैली कराई जाएंगी। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन मंत्री नितिन गड़करी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की भी रैलियां होंगी। 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाएगा। 23 जून को जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि को शहीद दिवस के रूप मनाया जाएगा। इस अभियान समापन 25 जून पीएम मोदी के मन की बात कार्यक्रम से होगा।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?