पीसीएस अधिकारी ज्योति मौर्या पति आलोक के विवाद को लेकर अब एक नयी कहांनी वायरल


पीसीएस अधिकारी ज्योति मौर्य के कृत्य और उसके पति आलोक मौर्य से हुए विवाद का प्रकरण सुर्खियों में हैं। हर तरफ लोग इसी प्रकरण की चर्चा करते नजर आ रहे हैं। इस चर्चा में सोशल मीडिया भी पीछे नहीं है। ज्योति मौर्य के समर्थन और विरोध के बीच सोशल मीडिया पर मीम्स की भी भरमार है।
वहीं सोशल मीडिया पर दो दिनों से एक शपथ पत्र वायरल हो रहा है। जिस पर एक शादी का एग्रीमेंट लिखा हुआ है। इसमें लिखा है कि 'मैं लीला देवी पुत्री परशुराम अपने और कई अधिकारी के सम्मुख यह वचन देती हूं कि मेरा पति हमें पढ़ने के लिए दिल्ली भेज रहा है। अगर मै कोई नौकरी पाती हूं तो मैं अपने पति को धोखा नहीं दूंगी और हमेशा उसके साथ रहूंगी। अगर मैं इन बातों के खिलाफ जाती हूं तो अपने पति को एक करोड़ रुपये जुर्माने के रूप में अपने पति को दूंगी।'
इस शपथ पत्र को लोग ज्योति मौर्य मामले से जोड़ रहे हैं और पक्ष-विपक्ष में खड़े होकर एक दूसरे के सवालों का जवाब दे रहे हैं। कोई कह रहा है कि कोई मीडिया या सोशल मीडिया ऐसे लोगों की बात नहीं कर रहा है जो अपनी पढ़ी लिखी पत्नी को छोड़कर भाग जाता है। तो कोई कह रहा है कि ज्योति ने ऐसा करके बहुत ही गलत संदेश दिया है। अब कोई भी व्यक्ति अपनी बहू को पढ़ाने की गलती नहीं करेगा। 
पीसीएस अधिकारी ज्योति मौर्य अपने पति सफाईकर्मी आलोक मौर्य को छोड़ने को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों के गुस्से का शिकार हो रही हैं। मामले से जुड़ी अब तक की कहानी जो बाहर आई है वह किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। ज्योति का मायका वाराणसी के एक गांव में है। उनके पिता गांव में ही एक छोटी से दुकान चलाते हैं। ज्योति बचपन से ही पढ़ाई में होशियार थीं। 2010 में ज्योति की शादी ग्रेजुएशन करने के दौरान ही प्रयागराज के धूमनगंज में तैनात आलोक मौर्य से करा दी गई थी। 
बरेली में तैनात महिला पीसीएस अधिकारी ज्योति मौर्य के पति आलोक मौर्य ने होमगार्ड मुख्यालय में शिकायत दर्ज कराई है कि उनकी पत्नी का गाजियाबाद के होमगार्ड कमांडेंट मनीष दुबे के साथ अफेयर चल रहा है और दोनों उनकी हत्या कराने की साजिश रच रहे हैं। उनकी शिकायत पर डीजी होमगार्ड वीके मौर्या ने प्रयागराज के डिप्टी कमांडेंट जनरल संतोष कुमार को जांच सौंपी है।

Comments

Popular posts from this blog

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?

स्वामी प्रसाद मौर्य के कार्यालय में तोड़फोड़ गोली भी चलने की खबर, पुलिस जांच पड़ताल में जुटी

लोकसभा चुनाव के लिए सायंकाल पांच बजे तक मतदान का प्रतिशत यह रहा