पुलिस भर्ती परीक्षा की कमान खुद संभाली डीजीपी ने, ग्राउंड लेबल पर निकल कर किया निरीक्षण


प्रदेश भर में चल रही यूपी पुलिस में सिपाही के लिए 60,244 पदों पर सीधी भर्ती की परीक्षा की कमान खुद डीजीपी ने संभाल रखा है और ग्राउंड लेबल पर निकल कर शान्ति पूर्ण और नकल विहीन परीक्षा सम्पन्न कराने में लगे है। शनिवार व रविवार को सभी 75 जिलों में 2,385 केंद्रों पर लिखित परीक्षा आयोजित है। शनिवार को सुबह 10 बजे सभी केंद्रों पर परीक्षा प्रारंभ हो गई। परीक्षा दोनों दिन सुबह 10 से 12 व दोपहर 3 से 5 बजे के बीच दो पालियों में होगी। इसमें 48,17,441 अभ्यर्थी शामिल होंगे। इनमें से 15,48,969 महिलाएं हैं।
परीक्षा को लेकर प्रशासन अलर्ट मोड पर है। प्रदेश के डीजीपी प्रशांत कुमार ने खुद भी  परीक्षा केंद्र का जाजया लिया। उन्होंने कहा कि हम पारदर्शी, निष्पक्ष और नकल विहीन परीक्षा कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं। कई जिलों में परीक्षा में सेंध लगाने की कोशिश करने वालों और ठगने वालों की गिरफ्तारी हुई है। सभी अधिकारी भ्रमणशील हैं। परीक्षा बहुत सुचारू रूप से चल रही है। उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया पर भी पुलिस की निगरानी जारी है। आज जौनपुर में लेखपाल भर्ती परीक्षा का पेपर लीक होने की अफवाह फैलाई गई थी। स्थानीय पुलिस प्रशासन ने अफवाह का खंडन किया और सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।
बाराबंकी शहर के सिविल लाइन स्थित जमीरूल रहमान गर्ल्स इंटर कॉलेज में डीएम सत्येंद्र कुमार एवं एसपी दिनेश कुमार सिंह ने सिपाही भर्ती परीक्षा का निरीक्षण किया। इस दौरान गेट बंद कराकर तमाम स्टाफ एवं परीक्षार्थियों की जांच कराई गई। यहां चेकिंग के दौरान पानी पिलाने की ड्यूटी में लगाए गए एक युवक के पास से मोबाइल बरामद हुआ। डीएम के निर्देश पर युवक को हिरासत में ले लिया गया और शहर कोतवाली लाकर पूछताछ की जा रही है। इसके बाद डीएम-एसपी ने अजमुद्दीन अशरफ इस्लामिया इंटर कॉलेज और जीजीआईसी समेत अन्य कॉलेजों का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। बता दें कि जिले के 22 केंद्रों पर परीक्षा चल रही है। इसको लेकर एएसपी दक्षिणी अखिलेश नारायण सिंह, सभी एसडीएम और सीओ केंद्रों का भ्रमण कर रहे हैं।
परीक्षा केंद्रों पर कड़े सुरक्षा प्रबंध के साथ एसटीएफ समेत खुफिया एजेंसियों को नकल माफिया व सॉल्वर गैंग को पकड़ने के लिए सक्रिय रखा गया है। उप्र पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड की अध्यक्ष डीजी रेणुका मिश्रा ने बताया कि हर केंद्र पर स्टैटिक मजिस्ट्रेट व पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। अभ्यर्थियों के बाॅयोमीट्रिक वेरिफिकेशन के बाद भी परीक्षा केंद्र में प्रवेश दिया जाएगा। जिला स्तर पर डीएम पर्यवेक्षक (मजिस्ट्रेट) के रूप में कार्य करेंगे। अपर जिलाधिकारी को सहायक नोडल अधिकारी (प्रशासन) के रूप में नियुक्त किया गया है। तीन परीक्षा केंद्रों पर एक सेक्टर मजिस्ट्रेट की भी तैनाती हुई है। उड़न दस्ते भी मुस्तैद रहेंगे।
यूपी के अलावा इस परीक्षा के लिए बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली, झारखंड, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और पंजाब के लगभग छह लाख अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है।
अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल
सेंधमारी रोकने के लिए अभ्यर्थियों की फिंगर प्रिंट व फेस रिकग्निशन से जांच होगी। संशय पर आधार प्रमाणीकरण कराया जाएगा। केंद्रों पर मोबाइल फोन व ब्ल्यूटूथ आदि को निष्क्रिय करने के लिए जैमर लगाए जाएंगे। भर्ती बोर्ड मुख्यालय से सीसीटीवी के जरिये लाइव निगरानी होगी।

Comments

Popular posts from this blog

21 अप्रैल को जौनपुर पहुंच कर लोकसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार का आगाज करेंगे बाबू सिंह कुशवाहा, जाने क्या है पूरा कार्यक्रम

पूर्व सांसद धनंजय सिंह के प्राइवेट गनर को गोली मारकर हत्या इलाके में कोहराम पुलिस छानबीन में जुटी

तेज रफ्तार का कहर: पेड़ से टकराई कार तीन के दर्दनाक मौत