कार्यकर्ता अगर अपना बूथ जीत गए तो समझो पार्टी चुनाव जीत गयी है - विवेक रंजन यादव


जौनपुर। केराकत विधानसभा में सपा के पीडीए की बैठक को को सम्बोधित करते हुए पार्टी के प्रदेश सचिव विवेक रंजन ने केराकत  विधानसभा सपा दफ्तर में  सपा पीडीए जनपंचायत को सम्बोधित करते हुए कहा कि   अपने संविधान बचाने के लिए पूरे 90 परसेंट वर्ग को एकजुट होकर के समता मूलक समाज की लड़ाई में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ खड़े होकर के समाजवादी पार्टी के साथ खड़े होकर के अखिलेश यादव के हाथों को मजबूत करना है।
प्रदेश सचिव ने कहा अगर आपका संगठन और बूथ मजबूत है तो आप कोई भी चुनाव जीत सकते हैं। आप अपना बूथ जीत गये तो समझो चुनाव जीत गये। यह लोकसभा चुनाव लोकतंत्र को बचाने का है। अतः सभी जाति और धर्म के लोगों को  साथ लेकर और वर्तमान सरकार की नाकामियो के बारे में बताने का काम भी करे। उन्होंने सभी लोगों से एकजुट होकर भाजपा सरकार को सत्ता से बेदखल करने का आवाह्न किया।
उन्होंने भाजपा नफरत फैलाने व जनता का ध्यान असल मुद्दों से भटकाने का षडयंत्र कर रही है।सपा पिछड़ों, वंचितों, दलितों,किसानों  मजदूरों के अधिकार और सम्मान की लड़ाई मजबूती से लड़ रही है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी ने नारा दिया है कि “जिसकी जितनी आबादी है उसकी उतनी भागीदारी हो। सपा के प्रदेश सचिव ने कहा कि पिछड़ों के वोट से बनी भाजपा की सरकारें पिछड़ों, वंचितों का हिस्सा हड़प रहीं हैं। वर्तमान में भाजपा सरकार सामंतवाद का परिचय दे रही है। वर्तमान में भाजपा सरकार सरकारी संस्थानों, उपक्रमों को अपने पूंजीपति मित्रों के हाथों नीलाम कर निजीकरण के द्वारा ओबीसी, एससी, एसटी का आरक्षण खत्म कर रही है। 
 सपा केराकत विधानसभाध्यक्ष नीरज पहलवान  ने कहा कि भाजपा पिछड़े वंचित दलित वर्ग के गुलाम मानसिकता के स्वार्थी नेताओं को चारा के रूप में प्रयोग कर शिकार बनाती है। 
पीडीए जनपंचायत की अध्यक्षता नीरज यादव व संचालन पंकज मंडल ने किया। 
जनपंचायत को  भगवती चंद सरोज, डॉक्टर हरिराम यादव, सुखराज बिन्द, ऋषि यादव ( समाजवादी कुटिया) , सत्यनारायण नाविक, आरती महाजन, सुरेश यादव, जितेंद्र यादव   आदि लोगों ने संबोधित किए।।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद