कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय: अब शिक्षिकायें सवालों के कटघरे में ,बीएसए ने की वार्ता




जौनपुर । एस टी एफ द्वारा जौनपुर बेसिक शिक्षा विभाग के कार्यालय में सेवारत संविदा कर्मी आनन्द सिंह को गिरफ्तार किये जाने के बाद से जनपद में कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय में फर्जीवाड़े से लगायत घोटाले की चर्चाओं के बीच अब कार्यरत शिक्षिकाओं पर सवाल उठने लगे हैं। जन चर्चा है कि शिक्षिकायें ड्यूटी किये बगैर ही सरकारी खजाने से बेतन आहरित कर रही है। इस मामले में बेसिक शिक्षा अधिकारी और शिकायत कर्ताओ के बीच काफी अन्तर है। लेकिन सच का खुलासा तो जांचोपरान्त ही संभव होगा। 
खबर है कि कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय मुफ्तीगंज में बतौर शिक्षिका तैनात रिमझिम सिंह विगत वर्ष नवम्बर माह से विद्यालय नहीं आ रही है और लगातार सरकारी खजाने से आनन्द सिंह की कृपा से वेतन आहरित कर रही है।  इनके सन्दर्भ में बेसिक शिक्षा अधिकारी से बात करने पर उन्होंने बताया कि कि इन्हें नोटिस दी जा चुकी है लगता है कि ये नौकरी नहीं करना चाहती है। वेतन के बिषय में कुछ भी बताने से परहेज किया। इससे इतना तो स्पष्ट हो गया कि शिक्षिका पर लगा आरोप सत्य के करीब है। 
लीना गुप्ता केराकत कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय में वार्डेन रही यह भी एक साल से ड्यूटी पर नहीं है इन पर भी आनन्द सिंह की कृपा रही है। इनके बिषय में बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि इनकी नियुक्ति वाराणसी स्थित कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय में बतौर शिक्षिका हो गया है वहीं नौकरी कर रही है। 
गरिमा सिंह जो कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय में कम्प्यूटर टीचर है जन आरोप है कि  इनके पास बीएड की डिग्री नहीं है और नवम्बर माह से गायब है न तो डिग्री का सत्यापन कराया न ही ड्यूटी पर आती है। वेतन आनन्द सिंह की कृपा से पा रही थी । इनके बिषय में बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जानकारी दिया कि डिग्री जमा हो रही है सत्यापन होगा इनके उपर लगे आरोप ग़लत है। 
इसी तरह मुंगराबादशाहपुर के कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में तैनात शिक्षिका स्वेता उपाध्याय को ड्यूटी से गायब रहने के आरोप पर बेसिक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि स्वेता उपाध्याय अभी 69 शिक्षक भर्ती में ड्यूटी पर थी उनके उपर गलत आरोप है। 
इस तरह शिक्षिकाओं पर आरोप प्रत्यारोप चल रहे हैं आरोप में कितना दम है जांच से ही स्थित साफ हो सकेगी।  अब यहाँपर सवाल यह है कि क्या प्रशासन के लोग सच बताने के लिए उक्त की जांच करायेंगे या नहीं  ? 

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद