किसान आन्दोलन ने लिया भयावह रूप, चली किसानों पर लाठियां


 

दिल्ली में किसान आंदोलन एक बार फिर से हिंसात्मक होता जा रहा है। गाजीपुर बॉर्डर पर लगातार बढ़ रहे किसानों पर किसी बात का कोई असर नहीं हो रहा है। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत धरने पर अड़े हुए हैं। उनके समर्थन में किसानों की बड़ी तादात में भीड़ का आना जारी है। वहीं उन्हें अब राजनीतिक दलों का समर्थन भी मिल रहा है। ऐसे में किसानों के आंदोलन का केंद्र अब गाजीपुर बॉर्डर बन गया है।
कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन पर बैठे किसानों ने सिंघु बॉर्डर पर बवाल मचा दिया है। यहां किसानों और स्थानीय लोगों के बीच पत्थरबाजी शुरू हो गई है। बॉर्डर पर जारी आंदोलन के पास ताबड़तोड़ हंगामा हो गया है।
सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शनकारियों पर भीड़ का हमला हुआ है। यहां पर किसानों से जगह खाली करने की मांग उठ रही है। जबकि दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर अब से कुछ देर में फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम पहुंचेगी। लोग किसान आंदोलन के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं और तिरंगे के अपमान को लेकर अपना गुस्सा जता रहे हैं।
बॉर्डर पर किसान आंदोलन बहुत ही भयावह होता जा रहा है। बढ़ती हिंसा को रोकने के लिए पुलिस लठियाँ चला रही है। लोगों द्वारा जगह खाली करने की अपील की जा रही है।
दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में किसानों की महापंचायत शुरू हो गई है। यहां हजारों की संख्या में किसान पश्चिमी उत्तर प्रदेश से आकर जुटे हैं। औऱ राकेश टिकैत के भाई नरेश टिकैत यहां किसानों को संबोधित करेंगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन