प्रदेश में बढ़ते अपराध के लिए जिम्मेदार कौन सरकार अथवा कानून,सुरक्षित क्यों नहीं है बेटियां - सुचिता तिवारी



जौनपुर। जनसत्ता पार्टी की युवा नेत्री सुचिता तिवारी ने प्रदेश में बढ़ते अपराध को लेकर प्रदेश की कानून व्यवस्था सहित सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि आज प्रदेश का हर नागरिक अपराधियों के डर एवं भयभीत वातावरण में जीवन जीने को मजबूर हो गया है और सरकार केवल कागजी बयान बाजी करने में मस्त पड़ी हुई है। 
श्रीमती तिवारी ने कहा कि सरकार का नियंत्रण परी तरह से या तो अपराधियों के उपर से हट चुका है या फिर सरकार का अपरोक्ष रूप से अपराधियों को संरक्षण मिल रहा है। तभी तो प्रदेश की पुलिस अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं कर रही है।उन्होंने यह आरोप लगाया कि अगर सरकार इमानदारी से अपराधियों पर अंकुश लगा रही तो तो अपराधी इतने बेखौफ क्यों है। एक सप्ताह के अन्दर लगभग एक दर्जन ऐसी घटनयें पूर्वी उत्तर प्रदेश में हुईं जिससे आम जनता की रूह कांप उठी है। 
उन्होंने कहा कि आज प्रदेश के अन्दर महिलायें खास कर बेटियां इतनी असुरक्षित है कि उसका कोई पुरसाहाल नहीं है। लगभग प्रतिदिन कहीं न कहीं किसी न किसी बेटी बहन की अस्मत लूटी जा रही है और सरकार है कि केवल ढकोसले बाजी का बयान जारी करते हुए बेटी बचाओ का नारा लगाने में ही जुटी हुई है। महिला अपराध को लेकर सरकार का दोहरा चरित्र अब जनता जान चुकी है समय आने पर उसका जबाब जरूर देगी। 
श्रीमती तिवारी ने वाराणसी की एक घटना का जिक्र करते हुए कहा कि डाक बंगले में सीएम योगी जी मौजूद थे और बाहर सुरक्षा का कड़ा पहरा था वहीं पर एक महिला की चैन छीन कर बदमाश भाग जाता है। यह घटना बता रही है कि अपराधियों में कानून और पुलिस का कितना खौफ है। यहीं हाल कमोबेश पूरे प्रदेश का है। सरकार को चाहिए कि अपराधियों पर अंकुश लगा कर आम जनता के जान व माल की सुरक्षा करें। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चाचा भतीजी में हुआ प्यार, फिर फरार, पकड़े जाने पर हुई दैहिक समीक्षा, अब शादी की तैयारी

58 हजार ग्राम प्रधानो को लेकर योगी सरकार ने लिया अब यह फैसला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम