चक्रवाती तूफान यास आज शाम अथवा रात्रि तक जानें कब पूर्वांचल में प्रवेश की है संभावना



पूर्वांचल में मौसम का रुख अब बदलने की ओर है, वातावरण में ठंड का असर भी इसके बाद होना तय है। फ‍िलहाल मौसम में गर्मी और उमस का भी असर बना हुआ है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार देर शाम या रात तक चक्रवातीय तूफान 'यास' का असर पूर्वांचल में होने लगेगा। इसके बाद मौसम का बदला रुख अगले तीन दिनों तक असर दिखाता रहेगा। मौसम विज्ञान विभाग ने भी 26 मई से इस तूफान के पूर्वांचल तक असर का अंदेशा जाहिर करते हुए अगले तीन दिनों तक तूफान का असर बरकरार रहने की उम्‍मीद जताई है। इसके बाद जून के पहले सप्‍ताह तक मौसम का रुख बेहतर बना रहेगा और गर्मी से लोगों को राहत मिलेगी। वहीं जून के दूसरे सप्‍ताह में उमस और गर्मी का जोर बना रहेगा और मानसून के आगमन तक मौसम का यही रुख बरकरार रहेगा। 
मंगलवार की सुबह आसमान में बादलों की मामूली आवाजाही का क्रम बना रहा। सुबह ठंडी हवाओं का जोर रहने से लोगों को गर्मी और उमस से भी राहत मिली। हालांकि, बादलों की यह सक्रियता दिन भर बनी रहेगी मगर धूप खिलने पर उमस का भी असर रहेगा। इसके बाद दोपहर बाद से बादलों की सक्रियता का दौर स्‍थाई होकर आएगा और अगले तीन दिनों तक बादलों की सक्रियता का दौर बना रहेगा। मौसम विभाग की ओर से जारी सैटेलाइट तस्‍वीरों में बादलों की सक्रियता का असर इस समय बिहार में पटना के आगे तक हो चुका है। वहीं मौसम विभाग की ओर से तूफान की वजह से मानसून की सक्रियता के ठिठकने की भी जानकारी दी गई है। चार दिन पूर्व जो मानसून की रेखा द्वीपों तक थी वह अगले ही दिन श्रीलंका तक पहुंचने के बाद ठिठक गई। चार दिनों से मानूसन ठहरा हुआ है। मानसून का यह ठहराव पूर्वांचल में मानसून के पहुंचने की देरी की ओर इंगित कर रहा है। मौसम विज्ञानी मान रहे हैं कि तूफान का असर कम होने के बाद मानसून को और भी गति मिलेगी और यह तेजी से पूर्वांचल के मैदानी इलाकों का रुख करेगा।  
बीते चौबीस घंटों में अधिकतम तापमान 38.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य से दो डिग्री कम रहा, न्‍यूनतम तापमान 23.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य से तीन डिग्री कम रहा। आर्द्रता इस दौरान अधिकतम 52 फीसद और न्‍यूनतम 39 फीसद दर्ज किया गया। बंगाल की खाड़ी से उठा चक्रवातीय तूफान 'यास' का असर पूर्वांचल तक अब होने लगा है। हालांकि, इस समय यह असर बहुत ही मामूली है। मौसम विज्ञानीयों के अनुसार  चक्रवात से उठा बादलों का एक झोंका इस समय बिहार में पटना को पार कर यूपी के पूर्वांचल की ओर पहुंच रहा है। उम्‍मीद है यह देर शाम या रात तक पूर्वांचल तक असर करने लगेगा। इसके बाद मौसम का रुख दोबारा बदलेगा और बादलों की सक्रियता का असर इसके तीन दिन बाद तक बना रहेगा।  

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीईटी साल्वर गिरोह का हुआ भन्डाफोड़, दो गिरफ्तार,एक जौनपुर दूसरा सोनभद्र का निकला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम

प्रेम प्रपंच में युवकों की जमकर पिटाई, प्रेमी की इलाज के दौरान मौत तो दूसरा साथी गंभीर