सामाज को बेटियों के प्रति सोच बदलना होगा सरकार महिलाओ को सशक्त बनाने के तमाम योजनायें चला रही है - मनीष कुमार वर्मा डीएम



अपना अधिकार पाने के लिए बेटियों को खुद संघर्ष करना होगा  - अंकिता राज अध्यक्ष आकांक्षा समिति 

''हक की बात जिलाधिकारी के साथ'' कार्यक्रम में यौन हिंसा, लैंगिक असमानता, घरेलू हिंसा पर चर्चा

जौनपुर। जनपद मुख्यालय से लगभग 20 किमी दूर स्थित धर्मापुर विकास खण्ड के ग्रामीण क्षेत्र में सुधाकर सिंह फाउंडेशन पिलखिनी गौराबादशाहपुर में आज 09 अगस्त सोमवार को आयोजित मिशन शक्ति 3.0 अभियान के तहत ''हक की बात जिलाधिकारी के साथ'' कार्यक्रम में  जिलाधिकारी ने ऐसी स्थितियों में उठाए जाने कदमों की जानकारी दी जबकि आकांक्षा समिति की अध्यक्ष डॉ अंकिता राज ने ऐसे मामलों में उनका हौसला बढ़ाया। जिलाधिकारी ने ज्यादातर मामलों को नोट करवाकर संबंधित विभागीय जिम्मेदारों को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। 
कार्यक्रम में प्रतिभाग कर रही लक्ष्मी यादव ने अपनी बात रखते हुए कहा कि लड़के फेल हो जाते हैं तब भी उन्हें अभिभावक आगे की पढ़ाई जारी रखवाने के लिए जी जान लगा देते हैं लेकिन जब बेटी एक बार फेल हो गई तो उसकी शादी कर अपनी जिम्मेदारियों से मुक्त हो जाते हैं। इतना ही नहीं लड़कों का एडमिशन अच्छे स्कूल में करवाते हैं जबकि लड़कियों का सरकारी स्कूल में ऐसा क्यों होता है।  
इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य समाज की सोच में बदलाव लाना है। उन्होंने बताया कि जौनपुर की जनसंख्या अनुपात अच्छा है। यहां 1000 पुरुषों पर 1018 महिलाएं हैं। इसलिए सरकार लड़कियों को सशक्त बनाने के लिए कई योजनाएं चला रही है। कन्या सुमंगला योजना, जिनके घर में दो बेटियां होंगी वहां बेटी के जन्म से लेकर पढ़ाई लिखाई तक के लिए योजना है। कस्तूरबा गांधी विद्यालय सिर्फ़ बेटियों के लिए है। योजनाओं से बदलाव दिख भी रहा है। कुछ बेटियां संघर्ष कर ओलम्पिक तक पहुंचीं हैं और देश का नाम रोशन कर रही हैं।
 आकांक्षा समिति की अध्यक्ष डॉ अंकिता राज ने उनका मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि खुद पर विश्वास रखें। योजनाएं और अफसर सब आपके लिए बने हैं। जबरदस्ती कराए जाने वाले किसी भी मामले में आपको पहल करनी होगी। उन्होंने लाकडाउन के दौरान सूरत में कारखानों के बंद रहने के दौरान अपने घर से हीरे का काम कर अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत करने वाली महिलाओं का उदाहरण दिया और सरकार की योजनाओं का लाभ उठाकर अपनी जीविका के लिए आसपास ही प्रयास करने का सुझाव दिया।
इसी क्रम में कृतिका ने कहा कि अब तो हर घर में कन्या भ्रूण हत्या होने लगी है। ऐसा मां से जबरदस्ती कर कराया जा रहा है। इससे मां का स्वास्थ्य गिरता है। इस पर आपके ध्यान देने की जरूरत है। इस पर जिलाधिकारी ने बताया कि कन्या भ्रूण हत्या पर रोक के लिए बहुत सख्त कानून है। लिंग की जांच करने वाले अल्ट्रा साउंड केंद्र पर बहुत ही सख्त कार्रवाई की जाती है। ऐसे कार्यक्रम इसीलिए किए जा रहे हैं जिससे महिलाओं के प्रति सम्मान की भावना बढ़े।
सलमा ने कहा कि उनके बगल के परिवार में एक युवक अपनी पत्नी की बहुत पिटाई करता है। इसलिए वह अपनी ससुराल नहीं जाना चाहती और मायके रहती हैं। फिर वह उसे लाने की जिद कर रहा है। जिलाधिकारी ने पूछा कि महिला ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कराया है तो छात्रा ने बताया कि महिला थाने में मुकदमा दर्ज है। इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि आप उनकी डिटेल दे दीजिए। पहले कई बार काउंसलिंग होगी। ज्यादा उत्पीड़न दिखेगा तो उन्हें विधिक रूप से अलग रहने की प्रक्रिया पूरी कराई जाएगी। इसके लिए उन्होंने वन स्टाप सेंटर का भी सहारा लेने की लोगों को सलाह दी।
इसके अलावा अपने आसपास शराब पीकर पत्नी, बेटी और बहू को मारने, अश्लील हरकतें करने सहित कई अन्य तरह की असमानताओं, परेशानियों के मामले भी उठाए गए जिसके लिए जिलाधिकारी ने सरकार की ओर से मिलने वाली सहूलियतों तथा महिलाओं की सुरक्षा और सम्मान के लिए बने कानूनों की जानकारी दी। कार्यक्रम में जिला प्रोबेशन अधिकारी अभय कुमार ने योजनाओं के बारे में जानकारी दी। जिलाधिकारी का स्वागत स्कूल के प्रबंधक अरविंद सिंह ने तथा आकांक्षा समिति की अध्यक्ष डॉ अंकिता राज का स्वागत स्कूल की प्राचार्य डॉ रूबी राय ने किया। कार्यक्रम में बाल संरक्षण अधिकारी चंदन राय, महिला कल्याण अधिकारी नीता वर्मा, प्रभारी सूचना अधिकारी कृष्ण कांत यादव, कौशल स्कूल हॉस्टल के वार्डेन अनिल श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीईटी साल्वर गिरोह का हुआ भन्डाफोड़, दो गिरफ्तार,एक जौनपुर दूसरा सोनभद्र का निकला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम

प्रेम प्रपंच में युवकों की जमकर पिटाई, प्रेमी की इलाज के दौरान मौत तो दूसरा साथी गंभीर