पुलिस महानिदेशक का ऐलान पुलिस की हिफाजत के लिए जिलों में बनेंगे कोविड - 19 अस्पताल


उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक मुकुल गोयल ने कहा है कि जल्द ही उत्तर प्रदेश के हर जिले में पुलिस कर्मियों के लिए कोविड-19 अस्पताल बनाए जाएंगे ताकि तीसरी लहर के समय पुलिसकर्मियों को प्राइवेट अस्पतालों में न भागना पड़े। उनका यह ऐलान कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए महत्वपूर्ण है। पुलिस प्रमुख का कहना है कि कोरोना की पहली और दूसरी लहर में तमाम पुलिसकर्मियों को जान गंवानी पड़ी। यह कदम इसलिए उठाया गया है ताकि अब उनकी और उनके परिवार की हिफाजत हो सके। 
उन्होंने कहा कि ऐसे अस्पताल पुलिसकर्मियों और उनके परिजन के लिए रक्षा कवच का काम करेंगे। उन्होंने अपेक्षा की कि कोरोना वायरस का प्रकोप शांत होने के बाद भी ऐसे अस्पताल संचालित होते रहने चाहिए ताकि आने वाले समय में पुलिसकर्मियों को प्राइवेट अस्पतालों की और रुख न करना पड़े। पुलिस महानिदेशक ने यह बात कानपुर महानगर की पुलिस लाइन में नवनिर्मित कोविड अस्पताल का उद्घाटन करते हुए कही। पुलिस कर्मियों के लिए बनाए जाएंगे कोविड-19 अस्पताल (कॉन्सेप्ट फोटो - सोशल मीडिया) मुकुल गोयल ने कहा कि इस अस्पताल को मॉडल बनाकर हर जिले में अस्पताल तैयार किए जाएंगे जिससे पुलिसकर्मियों के परिजनों को समुचित चिकित्सा सेवा प्रदान की जा सके। उन्होंने कहा कि कोरोना काल देश के लिए चुनौती का समय था। यह देश के मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए भी चुनौतीपूर्ण समय था। इस दौरान फ्रंट लाइन पर काम करने वाले डाक्टरों और पुलिसकर्मियों ने लोगों की जिंदगी बचाने के लिए बढ़-चढ़कर काम किया। बड़ी संख्या में लोगों ने अपनी जान भी गंवाई। पुलिस महानिदेशक ने कहा कि हर काम के लिए सरकार से अपेक्षा नहीं की जानी चाहिए। जनहित के कुछ कामों के लिए स्वयं भी प्रयास करना चाहिए। कानपुर महानगर में बना यह अस्पताल पुलिस प्रशासन और जनता के सम्मिलित सहयोग का नतीजा है। इस नवनिर्मित अस्पताल में 16 ऑक्सीजन युक्त बेड हैं। आईसीयू है। केयर नर्सिंग स्टाफ को रखा गया है। इसके अलावा प्लाजमा, ब्लड बैंक आदि अत्याधुनिक सुविधाएं इस अस्पताल में मौजूद हैं। इस अस्पताल को भविष्य में पॉलीक्लीनिक के रूप में अपडेट करने की भी योजना है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चाचा भतीजी में हुआ प्यार, फिर फरार, पकड़े जाने पर हुई दैहिक समीक्षा, अब शादी की तैयारी

58 हजार ग्राम प्रधानो को लेकर योगी सरकार ने लिया अब यह फैसला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम