थाना के अन्दर पुलिस की मौजूदगी में अधिवक्ताओं के बीच जूतम पैजार, जानें क्यों पुलिस रही मूकदर्शक


जनपद प्रयागराज के थाना कर्नलगंज में अधिवक्ताओं के दो गुटों के बीच हुए विवाद के बाद जमकर बवाल हुआ। दोनों पक्षों के बीच पहले कचहरी परिसर में मारपीट हुई। इसके बाद दोनों पक्ष कर्नलगंज थाने में आमने-सामने हो गए जिसके बाद वहां पुलिस की मौजूदगी में जमकर लात-घूंसे चले। यही नहीं सड़क के बाहर भी दौड़ा-दौड़ाकर एक-दूसरे को पीटा गया। मामले में दोनों पक्षों की ओर से एफआईआर दर्ज कराई गई है। पुलिस का कहना है कि जांच पड़ताल की जा रही है।
कचहरी परिसर में रोज की तरह शुक्रवार को भी कामकाज चल रहा था। सुबह 11 बजे के करीब लॉकअप के पास बने चैंबर में कुछ वकील बैठे थे। अचानक यहां काला कोट पहने और खुद को अधिवक्ता बताने वाले करीब एक दर्जन लोग पहुंच गए और उनका पहले से बैठे अधिवक्ताओं से विवाद होने लगा। देखते ही देखते बात बढ़ गई और वहां मारपीट शुरू हो गई। इससे अफरातफरी मच गया।
शोरगुल पर अन्य अधिवक्ता जुटे तो हमलावर भाग निकले। इसके बाद अधिवक्ताओं का एक गुट कर्नलगंज थाने पहुंचा और तहरीर दी। जिसके बाद पुलिस ने भुक्तभोगी अधिवक्ताओं को मेडिकल के लिए भेज दिया। तब तक दूसरा गुट भी वहां पहुंच गया और तहरीर देकर मुकदमा दर्ज करने की मांग की। उधर मेडिकल कराने के बाद पहला गुट वापस आया तो दोनों पक्ष आमने सामने हो गए और इसके बाद थाने में ही मारपीट शुरू हो गई।
दोनों पक्षों ने एक दूसरे को जमकर पीटा और पुलिस मूकदर्शक बनी रही। यहां तक कि सड़क पर एक-दूसरे को दौड़ा-दौड़ाकर मारपीट की गई। जिससे वहां भगदड़ मच गई। कुछ वरिष्ठ वकीलों के बीचबचाव करने के बाद मामला शांत हुआ। एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह का कहना है कि दोनों पक्षों की ओर से मिली तहरीर के आधार पर एफआईआर दर्ज की गई है। जांच पड़ताल की जा रही है।
मारपीट के साथ लूट की भी लगीं धाराएं
दोनों पक्षों की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर में मारपीट के साथ ही लूट समेत अन्य धाराएं लगाई गई हैं। अधिवक्ता सुशील कुमार पांडेय की ओर से विजय द्विवेदी समेत पांच नामजद व 15-20 अज्ञात पर रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। उधर अधिवक्ता विजय द्विवेदी की ओर से सुशील पांडेय समेत चार नामजद व 20-25 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। घटना को लेकर अधिवक्ता संघ ने दोनों पक्षों को नोटिस जारी कर निर्देशित किया गया है कि तीन जनवरी को बार के समक्ष उपस्थित होकर वह बताएं कि इस तरह की स्थिति क्यों उत्पन्न हुई।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मेदांता में इलाज करा रहे इस आईएएस अधिकारी का हुआ निधन

थाना चन्दवक की वसूली लिस्ट वायरल होने पर एक बार फिर सुर्खियों में पुलिस जांच शुरू

जौनपुर में फिर तड़तड़ायी गोलियां एक युवक गम्भीर रूप से घायल बदमाश फरार, पुलिस अंधेरे में चला रही छानबीन की तीर