मंत्रियों की समीक्षा बैठक में स्वास्थ्य विभाग के दावों के सच की पोल खोला विधायक का यह वीडियो


जौनपुर। प्रदेश सरकार के मंत्री के समक्ष आज गुरुवार 23 जून 22 को सीएमओ ने जिला अस्पताल के बर्न वार्ड के एसी और दवाओ को लेकर दावा किया कि आल इज ओक है। सभी एसी चल रही और मरीज को सुविधाएं मिल रही है। उनके दावे पर मंत्री गण भी आंख बंद कर भरोसा भी कर लिये कि सभी व्वस्थायें ठीक है तथा दवाएं अस्पताल से दी जा रही है। 

अस्पताल के अधिकारियों के झूठ और अस्पताल की व्यवस्थाओं का सच आज ही 23 जून 22 को बदलापुर के विधायक रमेश चन्द मिश्रा ने खोलते हुए सीएमओ और आकंठ भ्रष्टाचार में गोताखोरी कर रहे सीएमएस को फटकार लगाते हुए खोला है। इसका वीडियो भी वायरल हो गया है। अब मंत्री और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी बताये कि समीक्षा बैठक के दौरान उनके बयान और वास्तविक सच में कितना अन्तर है। 


दरसल बदलापुर विधान सभा क्षेत्र का एक व्यक्ति आग से जल जाने के कारण जिला अस्पताल के बर्न वार्ड में भर्ती हुआ है उसे देखने के क्षेत्रीय विधायक रमेश चन्द मिश्रा अस्पताल पहुंचे तो देखा कि अस्पताल का एसी नहीं चल रहा है काफी समय से बिगड़ा पड़ा है। बर्न का मरीज भीषण गर्मी में बिलबिला और कराह रहा है इसके बाद विधायक ने अस्पताल के जिम्मेदार अधिकारी को फोन लगाया और फटकार लगाते हुए कहा सरकार धन देती है इसके बाद भी एसी बन्द है नही है पैसा तो मुझसे पैसा और एसी लेलो और इसे आज हर हाल में चालू कराओ।

इतना ही नहीं वार्ड के अन्दर जानें के बाद वहां की अव्यवस्था देख कर नाराज हुए तथा मरीज के अटेंडेंट से दवा के बाबत जानकारी ली तो बताया कि दवाएं बाहर से लिखी जा रही है मौजूद डाक्टर ने कुछ कहा तो मरीज के साथ वाले ने कहा दवा हम खुद बाहर से खरीद कर लायें है। इस तरह यह साफ हो गया कि समीक्षा बैठक में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मंत्रियों को झूठी रिपोर्ट दे कर आल इज ओक करा दिये है जबकि सच्चाई उससे कोसो दूर है मरीज से लेकर हर व्यक्ति जिसका अस्पताल से काम है अधिकारियों के भ्रष्टाचार का शिकार है।अब देखना है कि समीक्षा करने वाले मंत्री एवं जिला प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारी वीडियों सुनने के बाद क्या एक्शन लेते है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन