उत्तर प्रदेश डीजीपी के लिए कवायद हुई तेज जानें कौन कौन है इस रेस में शामिल


उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 के परिणाम आने के कुछ दिन बाद ही हटाए गए पुलिस महानिदेशक मुकुल गोयल एक बार फिर इस पद की दौड़ में शामिल हो गए हैं। उत्तर प्रदेश में स्थाई पुलिस महानिदेशक के पद की होड़ में अभी कार्यभार संभाल रहे देवेन्द्र सिंह चौहान के अलावा 20 अफसर शामिल हैं। इस पद के लिए प्रदेश में 30 वर्ष की सेवा दे चुके अफसरों के नाम शामिल हैं।
मुकुल गोयल के हटने के बाद करीब चार महीने से पुलिस महानिदेशक का पद संभाल रहे देवेन्द्र सिंह चौहान को अब स्थायी करने की कवायद भी शुरू हो गई है। इन्होंने कार्यवाहक डीजीपी के रूप में 13 मई को अपना काम संभाला था। प्रदेश को करीब 120 दिन बाद स्थायी पुलिस महानिदेशक देने की कवायद केन्द्र सरकार ने प्रारंभ कर दी है। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश के 20 सीनियर आइपीएस अफसरों के नाम यूपीएससी को भेजे गए हैं।
किसी भी राज्य में पुलिस प्रमुख को हटाए जाने के समय तक तैनात राज्य में तैनात सभी आइपीएस अफसरों की वरिष्ठता को जोड़ा जाता है। डीजीपी पद की रेस में यूपी कैडर के तीन सीनियर आइपीएस अफसरों की नाम सबसे आगे है। तीनों ही अधिकारियों के रिटायरमेंट में छह महीने से अधिक का समय बाकी है। जीएल मीणा जनवरी में तो आरपी सिंह फरवरी में रिटायर होंगे। यह दोनों अधिकारी भी डीजीपी की रेस में हैं।
इन सभी के बीच में कार्यवाहक डीजीपी देवेन्द्र सिंह चौहान की दावेदारी काफी मजबूत है। प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने 11 मई को मुकुल गोयल को डीजीपी पद से हटा कर 13 मई को देवेन्द्र सिंह चौहान को डीजीपी का चार्ज दिया था। माना जा रहा है कि अब इन्हें ही स्थाई डीजीपी बनाया जा सकता है।
उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से वरिष्ठ अधिकारियों के जो नाम भेजे गए हैं, उनमें पूर्व डीजीपी मुकुल गोयल का भी नाम है। इसके साथ ही उनके पिछले कार्यकाल का भी ब्यौरा भी दिया गया है। इसके अलावा जिन अधिकारियों के नाम सरकार ने भेजे हैं, उनमें डीजी पुलिस भर्ती बोर्ड आरके विश्वकर्मा, कार्यवाहक डीजीपी देवेन्द्र सिंह चौहान और डीजी जेल आनंद कुमार के नाम हैं।
उत्तर प्रदेश कैडर के 1988 बैच के आइपीएस अधिकारी देवेन्द्र सिंह चौहान 15 फरवरी 2020 से डीजी इंटेलीजेंस के पद पर कार्यरत हैं। इस विभाग के मुखिया के उत्तर प्रदेश के हर गोपनीय सूचना पर नजर बनाए रखते हैं। देवेन्द्र सिंह चौहान के पास डीजी विजिलेंस का भी चार्ज है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भीषण सड़क दुर्घटना में दस लोगो की मौत दो दर्जन गम्भीर रूप से घायल, उपचार जारी

यूपी में जौनपुर के माधोपट्टी के बाद संभल औरंगपुर जानें कैसे बना आइएएस आइपीएस की फैक्ट्री

जानिए इंटर के छात्र ने प्रधानाचार्य को गोली क्यों मारी, हालत नाजुक, छात्र पुलिस पकड़ से दूर