विश्व एड्स दिवस पर एचआईवी संक्रमण में तेजी से वृद्धि का आंकड़ा चिन्ताजनक,जानें चिकित्सको की क्या है राय


ह्यूमन इम्यूनो डिफिसिएंसी वायरस (एचआईवी) संक्रमण तेजी से बढ़ा है। ग्यारह महीने में 100 नए युवा संक्रमित हुए हैं। इसमें इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट के छात्र भी शामिल हैं। सब बीएचयू के एआरटी सेंटर पहुंचकर निशुल्क सलाह ले रहे हैं।
विश्व एड्स दिवस आज शुक्रवार को है। इस अवसर पर एचआईवी संक्रमण के डराने और चिंतित करने वाले आंकड़े सामने आए हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक जनवरी से नवंबर के बीच वाराणसी एवं आसपास के जिलों में 393 लोग एचआईवी संक्रमित मिले हैं। इनमें दो ट्रांसजेंडर शामिल हैं। सर्वाधिक संक्रमण युवाओं में मिला है। इनकी उम्र 20 से 40 वर्ष बताई गई है। घर से दूर छात्रावासों में रहकर पढ़ाई करने वाले युवा भी संक्रमित मिले हैं। इससे डॉक्टर चिंतित हैं। उनका कहना है कि एचआईवी, एड्स की गंभीरता की जानकारी हर किसी को है, फिर भी युवा अपनी सेहत का ख्याल नहीं रख रहे हैं।
बीएचयू अस्पताल स्थित एआरटी सेंटर वर्ष 2005 से चल रहा है। तब से अब तक 5,313 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें 2,500 पुरुष और 2,378 महिलाएं शामिल हैं। पांच ट्रांसजेंडर, 15 साल से कम उम्र के 290 बालक और 140 बच्चियां भी संक्रमित मिली हैं। इन सभी का इलाज चल रहा है। नियमित दवाई लेने के लिए संक्रमित सेंटर आते हैं। एआरटी सेंटर पर काउंसिलिंग की जाती है, फिर जरूरत के हिसाब से इलाज किया जाता है। इस सेंटर पर 26,974 लोगों ने पंजीकरण कराया था।
तीन साल में संक्रमितों का आंकड़ा
2020-21, 444

2021-22, 559

2022-23, 667

2023-24, 393 (29 नवंबर तक)

सेंटर पर आने वालों को संक्रमण से बचाव के प्रति जागरूक किया जाता है। बताया जाता है कि संक्रमण के बाद नियमित उपचार, जांच कराते रहना चाहिए। युवा बीमारी छिपाते हैं, जो ठीक नहीं है। आगे चलकर खतरा बढ़ जाता है।-डॉ. जया चक्रवर्ती, नोडल अधिकारी, एआरटी सेंटर बीएचयू
संक्रमण की जानकारी एआरटी सेंटर में देनी चाहिए। समय से काउंसिलिंग और इलाज फायदेमंद रहता है। -डॉ. मनोज तिवारी, वरिष्ठ परामर्शदाता, एआरटी सेंटर बीएचयू
जिला अस्पताल स्थित एआरटी सेंटर में वर्ष 2011 से अक्तूबर 2023 तक 13 वर्ष में 5,417 लोगों ने पंजीकरण कराया। इनमें से 3641 संक्रमित मिले हैं। 2,423 लोग सेंटर पर आकर नियमित दवाइयां ले रहे हैं। एआरटी सेंटर पर डाटा मैनेजर अजीत कश्यप ने बताया कि अप्रैल से अक्तूबर 2023 तक 148 नए संक्रमित मिले। इनमें 15 वर्ष से कम उम्र वाले चार, 15 से 35 वर्ष के 88, 35 से 50 वर्ष के बीच 55 और 50 वर्ष से ऊपर के 11 संक्रमित हैं। पांच ट्रांसजेंडर भी हैं। अप्रैल से अक्तूबर के बीच 42 संक्रमित ऐसे आए, जिन्हें टीबी भी है।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद