पीएम उवाच जाने क्यों संसद में रोये थे योगी आदित्य नाथ


कोरोना वायरस की चुनौती को लेकर वाराणसी के डॉक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ और अन्य फ्रंटलाइन स्वास्थ्यकर्मियों से बात करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की जमकर तारीफ की. उन्होंने कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर योगी सरकार के प्रयासों को भी सराहा.
प्रधानमंत्री ने कहा कि ''पूर्वांचल में पहले किस तरह बच्चों में दिमागी बुखार वाली बीमारी का कहर था. इससे हर साल हजारों बच्चों की दुखद मृत्यु हो जाती थी. योगी जब सांसद थे, तब बच्चों की मृत्यु पर वो फूट-फूट कर संसद में रोये थे. सरकार से बच्चों को बचाने की गुहार लगाते थे.'' उन्होंने कहा कि ''जब योगी जी मुख्यमंत्री बने, तो भारत सरकार के साथ मिलकर उन्होंने दिमागी बुखार के खिलाफ बड़ा अभियान शुरु किया. आज काफी मात्रा में बच्चों की जिंदगी बचाने में हम सफल हुए हैं.''

ब्लैक फंगस की एक और नई चुनौती- मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि ''अब हमारा नया मंत्र है 'जहां बीमार वहीं उपचार'. इस सिद्धांत पर माइक्रो-कंटेनमेंट जोन बनाकर जिस तरह आप शहर एवं गावों में घर-घर दवाएं बांट रहे हैं, ये बहुत अच्छी पहल है. इस अभियान को ग्रामीण इलाकों में जितना हो सके उतना व्यापक करना है.'' उन्होंने कहा कि ''हमारी इस लड़ाई में अभी इन दिनों ब्लैक फंगस की एक और नई चुनौती भी सामने आई है. इससे निपटने के लिए जरूरी सावधानी और व्यवस्था पर ध्यान देना जरूरी है.''

हेल्थ सिस्टम पर एक साथ बहुत बड़ा दबाव- PM

मोदी ने कहा कि ''कोरोना की दूसरी वेव में हमें कई मोर्चों पर एक साथ लड़ना पड़ रहा है. इस बार संक्रमण दर पहले से कई गुना ज़्यादा है और मरीज़ों को ज़्या​दा दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ रहा है. इन सबसे हमारे हेल्थ सिस्टम पर एक साथ बहुत बड़ा दबाव पैदा हो गया है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चाचा भतीजी में हुआ प्यार, फिर फरार, पकड़े जाने पर हुई दैहिक समीक्षा, अब शादी की तैयारी

58 हजार ग्राम प्रधानो को लेकर योगी सरकार ने लिया अब यह फैसला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम