पहले तीनों बहनो का मिला कंकाल बाद में मां की पेड़ से लटकती मिली लाश,क्षेत्र में सनसनी


मिर्जापुर के हर्रा जंगल में तीन लड़कियों के कंकाल मिलने के बाद लड़कियों के मां की पेड़ से लटकती लाश मिलने पर सनसनी फैल गयी है। विगत एक महीने से लापता हालिया क्षेत्र के हर्रा जंगल में मिले कंकाल तीन सगी बहनों बताए जा रहे हैं। जिसके बाद से पूरे इलाके में सनसनी फ़ैल गई है। मामले के बारे में जानकारी मिलने पर पहुंचे परिजनों ने कपड़ों से लड़कियों की पहचान कर लिया था। जिसके बाद अब दो दिन बाद उनकी सौतेली मां का शव भी पेड़ से लटका मिला है। शुक्रवार को मतवार चौकी के रईया बांध के जंगल में मुन्ना पाल भेड़ चरा रहा था। बदबू आने पर उसने आसपास नजर दौड़ाई तो उसे 20 फीट ऊंचाई पर पेड़ से लटका महिला का शव दिखाई दिया। इसकी सूचना उसने ग्रामीणों को दी। मिले 3 सगी बहनों के कंकाल उधर, सूचना पर हलिया थाना पुलिस भी पहुंच गई। पुलिस ने गायब चल रही सीमा के भाई रमाकांत को बुलाकर शव की शिनाख्त कराई। महिला की साड़ी, चप्पल और टूटे मोबाइल से रामकांत ने शव की पहचान अपनी बहन सीमा के रूप में की।
दरअसल, मिर्जापुर के हलिया थाना क्षेत्र के हर्रा के जंगल में 3 सगी बहनों के कंकाल मिले थे। शवों की शिनाख्त बेलगंवा गांव निवासी देवीदास ने अपनी बेटी गोलू (12), मुन्नी (10) और ममता (08) के रूप में की थी। पुलिस ने कंकाल डीएनए जांच को भेजकर मामले की जांच शुरू कर दी थी। तीनों बच्चियां 38 दिनों पहले सौतेली मां के साथ इंदौर गई थी। कंकाल मिलने की सूचना पर वह फरार हो गई थी। 
पुलिस जांच में जुटी 20 फीट ऊपर पेड़ पर लटकता मिला सीमा का शव 22 अगस्त को इंदौर से अकेली लौटी बेलाही गांव के रहने वाले देवीदास अपनी दूसरी पत्नी सीमा, तीन पुत्रों और तीन पुत्रियों के साथ रहते थे। देवीदास ने बताया कि 16 अगस्त को वह किसी काम से घर से निकला था। सीमा उसकी पहली पत्नी की तीनों पुत्रियों गोलू (12) मुनिया (10) और ममता (8) को साथ लेकर निकल गई। काफी खोजबीन के बाद पता न चलने पर उसने पत्नी सीमा को फोन कर पूछा तो उसने बताया कि वह मजदूरी करने इंदौर आई है। इसके बाद रक्षाबंधन पर 22 अगस्त को सीमा अपने मायके बेलगवा सुखड़ा पहुंच गई। 
रेप के बाद हत्या की आशंका कंकाल मिलते ही फरार हो गई थी सीमा लड़कियों को साथ न देखकर उसने पूछा तो सीमा ने बताया कि इंदौर में एक महिला के घर पर छोड़कर आई है। कोई चिंता की बात नहीं है। इसके बाद सीमा यहीं पर रहने लगी। मंगलवार को चरवाहों ने सीमा के भाई रमाकांत को हर्रा जंगल में कंकाल मिलने की सूचना दी। रमाकांत ने जीजा देवीदास को इसकी जानकारी दी। देवीदास मंगलवार की शाम जंगल में गया तो उसे छाता और कंकाल मिले। कपड़ों से उसने पुत्रियों की शिनाख्त की। छाता लेकर वह पत्नी सीमा के पास गया तो वह साथ नहीं आई। इसके बाद मौका देखकर वह भाग गई। सूचना मिलने पर पुलिस ने कंकाल कब्जे में ले लिए। 
पुलिस अधीक्षक अजय कुमार ने फोर्स के साथ घटनास्थल पर जांच पड़ताल की। पति देवीदास की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। इसके चलते सीमा गांव की ही चट्टी पर अंडे का दुकान लगाती थी। मृतका के भाई रमाकांत ने हत्या की आशंका से इंकार नहीं किया है। घने जंगल में वह अकेले कैसे पहुंची,इस पर उसे भी आश्चर्य है। घटनास्थल पर मिला टूटा मोबाइल तो अलग कहानी बयां कर रहा है। हत्या या आत्महत्या पर उलझा मामला सीमा की हत्या और आत्महत्या पर पुलिस उलझ गई है। सीमा के फरार होने के बाद पुलिस मान रही थी कि शव मिलने के बाद पकड़े जाने के डर से वह फरार हो गई है। घटना स्थल पर पुलिस अधीक्षक अजय कुमार, एसपी आपरेशन, सीओ और प्रभारी निरीक्षक के साथ मौके पर पहुंचकर मौका मुआयना किया। पुलिस अधीक्षक अजय कुमार सिंह ने बताया कि प्रथमद्रष्टया महिला द्वारा आत्महत्या किया जाना लग रहा है। फिलहाल मामले की गहराई से छानबीन की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही घटना के सही कारणों का पता चल पाएगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन