जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम


जौनपुर। जनपद में तैनात दुष्कर्म के आरोपित इंस्पेक्टर अमित कुमार को पुलिस सेवा से अपर पुलिस आयुक्त सुभाष चन्द्र दुबे ने सेवा समाप्ति का आदेश जारी किया है। इस बाबत जारी रिपोर्ट में अपर पुलिस आयुक्‍त अपराध एवं मुख्‍यालय कमिश्‍नरेट वाराणसी के अनुसार आरोपित अमित कुमार द्वारा दिया गया स्‍पष्‍टीकरण आधारहीन, तथ्‍यहीन, असत्‍य, निराधार और बलहीन पाए जाने पर उत्‍तर प्रदेश अधीनस्‍थ श्रेणी के पुलिस अधिकारियों की नियमावली के अनुरूप पदच्‍युति करने का आदेश पारित कर दिया गया है। इस आशय की सूचना से अपर पुलिस महानिदेशक स्‍थापना, पुलिस उप महानिरीक्षक स्‍थापना, जौनपुर पुलिस अधीक्षक, आरोपित के मेरठ निवास, मेरठ के वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक और प्रतिसार निरीक्षक पुलिस कमिश्‍नरेट वाराणसी को भी इसकी सूचना दे दी गई है। 
दरअसल मथुरा निवासी (वर्तमान निवासी फरीदाबाद हरियाणा) की एक युवती ने वाराणसी में तैनात पुलिस इंस्‍पेक्‍टर अमित कुमार के खिलाफ वाराणसी पुलिस को शिकायत किया था कि उसने युवती के साथ छल पूर्वक शादी का झांसा देकर अनै‍तिक संबंध और दुराचार के साथ मारपीट और वीडियो बनाकर वायरल करने जैसे काम किए हैं। मामले की जानकारी होने के बाद युवती की शिकायत के आधार पर वाराणसी पुलिस ने मुकदमा कायम करने के साथ 31 मई 2020 को दिनेश कुमार सिंह, नगर पुलिस अधीक्षक वाराणसी को जांच सौंपी गई थी। उनके गैर जनपद स्‍थानांतरण के बाद 16 जून को विकास चंद्र त्रिपाठी, नगर पुलिस अधीक्षक ने भी जांच की। जांच में पाया गया कि आरोपित अमित कुमार के द्वारा अनैतिक कार्य करते हुए पुलिस विभाग की छवि को भी धूमिल करने का आरोपित पाया गया।
आरोपित की पत्‍नी मीनाक्षी भी पुलिस विभाग में हेड कांस्‍टेबल है। उसने भी पति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराया तो मामले की जांच में सभी आरोप सही पाए गए। आरोप के अनुसार वह जालसाजी करके सब इंस्‍पेक्‍टर से इंस्‍पेक्‍टर के पद पर प्रमोट हुआ था। इसके बाद आरोपित का डिमोशन करते हुए उसे सब इंस्‍पेक्‍टर बना दिया गया था। युवती ने 8 जनवरी 2020 को वाराणसी के महिला थाने में अमित के खिलाफ तहरीर दी थी। पीड़िता ने तत्कालीन एसएसपी से शिकायत की थी कि अमित उस पर समझौता करने का दबाव बनाता है और बात न मानने पर उसकी हत्या की धमकी देता है। इसे लेकर तत्कालीन एसएसपी के आदेश पर कैंट थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। इससे नाराज होकर अमित कुमार एसएसपी कैंप कार्यालय में खुद पर पेट्रोल डाल कर आत्मदाह की धमकी दी थी। इसके बाद तत्कालीन आइजी रेंज के आदेश से अमित का तबादला जौनपुर जिले में कर दिया गया था। तब से वह जौनपुर जिले में ही कार्यरत था।
जांच रिपोर्ट में पाया गया कि आरोपित अमित कुमार शादी शुदा होने के बावजूद भी युवती के संपर्क में रहा और अनैतिक कार्यों में लिप्‍त रहा। युवती के आरोप सत्‍य पाए गए और आरोपित पर अकर्मण्‍यता, अनुशासनहीनता, लापरवाही और कर्तव्‍यों के विपरीत कार्य से पुलिस विभाग की छवि धूमिल हुई है। इस बाबत 25 सितंबर को जांचोपरांत आरोपित के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था। अमित कुमार की उप निरीक्षक के पद पर पुलिस विभाग में नियुक्ति 2001 में हुई थी और उसकी वर्तमान में तैनाती जौनपुर जनपद में है। इस मामले में आरोपित को न्‍यायालय से जमानत भी मिली थी लेकिन विभाग की ओर से उसे अपराध मुक्‍त न होने से कार्रवाई का क्रम जारी रहा। लिहाजा न्‍यायिक और विभागीय कार्रवाई के क्रम में आरोपित के खिलाफ आखिरकार कार्रवाई करते हुए नौकरी से बर्खास्‍त कर दिया गया है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जफराबाद विधायक को हार्ट अटैक फस्टेड के बाद, मेदान्ता के लिए रेफर

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर

योगी सरकार ने यूपी में आज फिर 12 आईएएस का तबादला, देखे सूची