आइए जानते है जफराबाद विधान सभा क्षेत्र के जनता की रूझान किसके साथ है


जौनपुर। विधान सभा चुनाव के तहत मतदान की तिथि अब नजदीक आने के साथ ही जनपद के जफराबाद विधान सभा क्षेत्र में चुनाव धीरे धीरे मतदाताओ की रूझान भी नजर आने लगी है। दलीय निष्ठाओ के लोंगो को छोड़कर अब मतदाता अपने पसंदीदा प्रत्याशी की तरफ झुकाव दिखाने लगा है। इस विधान सभा में जो स्थिति नजर आ रही है उसके अनुसार जनता अपने विधायक को बदलने के मूड में दिखायी दे रही है। हलांकि राजनैतिक दलो की जंग करारी है और एक दूसरे को पछाड़ने के लिए दिन रात एक किये हुए है। पसीना सभी को आ रहा है। लेकिन सपा गठबंधन के प्रत्याशी का चुनाव जनता द्वारा खुद लड़ा जा रहा है इसी से आंकलन किया जा सकता है कि परिणाम क्या हो सकता है। 
यहां बता दें कि जफराबाद विधान सभा क्षेत्र से इस चुनाव में कुल 10 प्रत्याशी चुनाव मैदान में है लेकिन लड़ाई तो कमोबेश तीन लोंगो के बीच होनी है। सपा और सुभासपा गठबंधन से पूर्व मंत्री जगदीश नारायन राय चुनाव मैदान में है तो भाजपा ने अपने विधायक डाॅ हरेन्द्र प्रताप सिंह को चुनाव मैदान में उतारा है। बसपा चूंकि टिकट बेंच रही तो यहां से बसपा का टिकट डाॅ संतोष कुमार मिश्रा जो जनपद आजमगढ़ के निवासी है ने खरीदा और चुनाव मैदान में किस्मत आजमा रहे है। कांग्रेस ने पुराने नेता तिलकधारी निषाद की बहू लक्ष्मी नागर को मैदान मे उतारा है। इसके अलांवा जो भी चुनाव मैदान में है वोट कटवा की श्रेणी में खड़ा दिखाई दे रहा है। कुछ एक लोग यहां से निर्दल विधायक बनने का सपना देख रहे है। 
चुनाव में जीत के लिए चाहे कोई कितना भी दावा करे लेकिन यहां पर सपा गठबंधन और भाजपा के बीच में सीधी लड़ाई नजर आ रही है। विधान सभा का चुनाव लड़ रहे भाजपा प्रत्याशी हरेन्द्र प्रताप सिंह अपने पांच साल के कार्यकाल में जिस तरह से गांव गांव में लोंगो की गुटबाजी में शामिल होकर परेशान किया और आम जन को व्यक्तिगत क्षति पहुंचाया उसका नतीजा जनता की नाराजगी अब खुलकर सामने आने लगी है। मतदाता विधायक बदलने के मूड में दिखने लगी है। जफराबाद विधान सभा से चुनाव मैदान में सपा गठबंधन से आने के बाद जनता की रूझान जगदीश नरायन राय की तरफ अधिक दिख रही है। इतना ही नहीं अगर यह कहा जाये कि चुनाव एक तरफा जाता नजर आ रहा है तो अतिशयोक्ति नहीं होगा मजेदार बात यह है जगदीश नरायन राय का चुनाव जनता खुद ही लड़ने के लिए मैदान में आ गयी है। खबर यह मिली है कि विधान सभा क्षेत्र के नेवढ़ियां इलाके के 700 ब्राह्मण मतदाता जो बाहर रहते थे जगदीश नरायन राय को वोट देने के लिए अपने खर्च से घर आ रहे है इसी से जगदीश नरायन राय की लोकप्रियता का आकलन किया जा सकता है।
रही बात बसपा की तो पार्टी प्रत्याशी होने के कारण चुनाव मैदान में मिश्रा जी भले है लेकिन बाहरी होने के कारण उनका कोई असर क्षेत्र में नहीं है इतना ही बसपा के मूल मतदाताओ की भी रूझान सपा गठबंधन प्रत्याशी जगदीश नरायन राय की तरफ व्यक्तिगत रूप से देखने को मिल रही है। इस तरह जो स्थिति नजर आ रही है उसके अनुसार नहीं कहा जा सकता है कि बसपा भी लड़ाई में है। रही बात कांग्रेस की तो जग जाहिर है कि उसके पास कितना वोट बैंक है। प्रत्याशी चूंकि निषाद है इसलिए अपने जाति के वोट प्राप्त कर सकता है। शेष प्रत्याशियों की जमानत बचेगी या नहीं कहना कठिन है। 
जफराबाद विधान सभा में कुल मतदाताओ की संख्या 3 लाख, 97 हजार 948 है इसमें 2 लाख 08 हजार 686 पुरूष और 1 लाख 89 हजार 247 महिला मतदाता है। जातीय मतदाताओ का समीकरण इस प्रकार है यादव 55 हजार, ब्राह्मण 50 हजार, क्षत्रीय 43 हजार, निषाद 40 हजार, मुसलमान 35 हजार, मौर्य 40 हजार, दलित 50 हजार मतदाता संख्या है। शेष अन्य जातियां शामिल है। जिनकी संख्या 5 से 10 हजार तक आंकी गयी है। हलांकि परिणाम तो 10 मार्च को सामने आ ही जायेगा लेकिन जनता की रूझान संकेत देने लगी है कि इस बार उनका जन प्रतिनिथि बदलेगा लोग जगदीश नरायन राय में अपने क्षेत्र के विकास की झलक देख रहे है।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन