सीएम के शख्त निर्देश के बाद नशे के सौदागरी की आयी सामत,06 दिन में 14.79 करोड़ रुपए की सम्पत्तियां हुई जप्त

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कड़े निर्देशों के बाद पुलिस ने मादक पदार्थ तस्करों की काली कमाई से जुटाई गई संपत्तियों को जब्त किए जाने की कार्रवाई भी तेज की है। विशेष अभियान के तहत 24 से 30 अगस्त के मध्य छह दिनों में पुलिस ने मादक पदार्थ तस्करों की 14.79 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति जब्त की है। इसी अवधि में अवैध शराब के कारोबार में लिप्त 4060 आरोपितों को भी गिरफ्तार किया गया है।
एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार के अनुसार छह दिनों में प्रदेश भर में चल रहे अभियान के तहत मादक पदार्थ तस्करों के विरुद्ध 606 मुकदमे दर्ज कर 675 आरोपितों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 8.80 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के मादक पदार्थ बरामद किए गए हैं।
पुलिस ने 19 आरोपितों के विरुद्ध गैंगेस्टर एक्ट के तहत पांच मुकदमे भी दर्ज किये हैं। मादक पदार्थ का कारोबार किए जाने के तीन मामलों में प्रभावी पैरवी कर आरोपितों को सजा भी सुनिश्चित कराई गई है।
ऐसे ही अभियान के तहत अब तक अवैध शराब कारोबारियों के विरुद्ध 3951 मुकदमे दर्ज कराकर 4060 आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है।आरोपितों के कब्जे से 2.75 करोड़ रुपये से अधिक कीमत की अवैध शराब बरामद की गई है। इनमें 54 आराेपितों के विरुद्ध गैंगेस्टर एक्ट के तहत 11 मुकदमे दर्ज कराए गए हैं तथा 165 आरोपितों के विरुद्ध आबकारी अधिनियम की धारा 60(क) के तहत निरुद्ध किया गया है, जिसमें मृत्यु दंड तक का प्रावधान है। पांच मामलों में प्रभावी पैरवी कर पांच शराब तस्करों को सजा सुनिश्चित कराई गई है।
एडीजी ने बताया कि अवैध शराब तस्करों के विरुद्ध कार्रवाई में देवरिया, गाजियाबाद, मथुरा, फिरोजाबाद व रायबरेली पुलिस ने उत्कृष्ट कार्रवाई की है। मादक पदार्थ तस्करों के विरुद्ध कार्रवाई में बाराबंकी, रायबरेली, सिद्धार्थनगर, बलरामपुर व गाजीपुर पुलिस आगे है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रदेश में मादक पदार्थ व अवैध शराब तस्करों के विरुद्ध 24 से 31 अगस्त तक अभियान के तहत कार्रवाई का आदेश जारी हुआ था। अभियान के तहत हो रही कार्रवाई की प्रतिदिन समीक्षा भी की जा रही है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भीषण सड़क दुर्घटना में दस लोगो की मौत दो दर्जन गम्भीर रूप से घायल, उपचार जारी

यूपी में जौनपुर के माधोपट्टी के बाद संभल औरंगपुर जानें कैसे बना आइएएस आइपीएस की फैक्ट्री

जानिए इंटर के छात्र ने प्रधानाचार्य को गोली क्यों मारी, हालत नाजुक, छात्र पुलिस पकड़ से दूर