महिला ने अपने दो बच्चों की हत्या कर खुद फांसी पर झूल गयी,अब कारण के लिए छानबीन में जुटी

 

जौनपुर। अवसाद से ग्रस्त एक युवती ने अपने दो अबोध बच्चों का गला दबाकर खुद फांसी पर लटक गई। सूचना पर मौके पर पहुंची कोतवाली थाना की पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घटना से पूरे गांव में हड़कंप मच गया है।
मामला केराकत कोतवाली थाना क्षेत्र के तरियारी गांव का है। गांव के मनोज पाल की शादी‌ 12 साल पहले लाइन बाजार थाना क्षेत्र के परियाएं गांव में 29 वर्षीया सरोजा पाल से हुई थी। शादी के दस साल बाद जुड़वां बच्चे पैदा हुए थे। जिसमें लड़का तनवेश व लड़की का नाम तन्वी था‌। दोनों की‌ उम्र 11 माह थी। मनोज पाल‌ मुम्बई रहकर प्राइवेट इलेक्ट्रीशियन का काम करता था। दो माह पूर्व मनोज अपनी पत्नी सरोजा को मुम्बई से घर आ गया। शुक्रवार को गांव में गणेश पूजा का‌ भंडारा था, जिसमें वह गया था। जहां रात में रुक गया। शनिवार को सुबह छह बजे वह घर आया तो दरवाजा अन्दर से बन्द था। दरवाजे खोलवाने लगा तो कोई‌ आवाज नहीं आई। अनहोनी की आशंका होते ही स्वजनों की मदद से दरवाजा खोला तो देखा कि सरोजा गाटर के हुक से गमछे के सहारे फांसी पर‌ लटकी‌ हुई थी और दोनों‌ बच्चे को‌ मृत पड़े थे। वारदात की जानकारी होने के बाद आसपास के गांवों में खलबली मच गई। इस बाबत सूचना मिलने पर सीओ गौरव शर्मा, थाना प्रभारी निरीक्षक संजय वर्मा मौके पर पंहुचे और स्वजनों एवं पति से पूछताछ की। शव को कब्जे में ले कर पोस्‍टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि मां ने बच्‍चों को गला दबाकर मार दिया उसके बाद खुद फांसी पर लटक गई। मृतका के ससुर मनिराज मुंबई में हैं। जबकि सास यहीं घर पर हैं। घटना से हर कोई अचंभित है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भीषण सड़क दुर्घटना में दस लोगो की मौत दो दर्जन गम्भीर रूप से घायल, उपचार जारी

यूपी में जौनपुर के माधोपट्टी के बाद संभल औरंगपुर जानें कैसे बना आइएएस आइपीएस की फैक्ट्री

जानिए इंटर के छात्र ने प्रधानाचार्य को गोली क्यों मारी, हालत नाजुक, छात्र पुलिस पकड़ से दूर