पुलिस ने फिर मुठभेड़ में एक गो-तस्कर के पैर में गोली मार गिरफ्तारी का किया दावा




जौनपुर। जनपद की थाना खेतासराय और एसओजी तथा शाहगंज थाने के पुलिस ने संयुक्त मुठभेड़ में एक गो तस्कर को गिरफ्तार करने का दावा किया है। पुलिस द्वारा जारी विज्ञप्ति के जरिए बताया गया है कि पुलिस अधीक्षक के द्वारा अपराध और अपराधियों की रोकथाम के लिए पुलिस गस्त कर रही थी कि अरन्द पुलिया के पास बदमाशो को होने की खबर पर वहां पहुंच कर बदमाशो को रोकने का प्रयास किया तो बदमाश पुलिस बल पर फायरिंग शुरू कर दिये। पुलिस ने जबाबी कार्यवाई करते हुए गोली चलायी जो गो तस्कर हारून उर्फ पप्पी के वायें पैर में घुटने के नीचे लगी वह गिरा और पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने अपने बयान में यह भी बताया है कि गो-तस्कर द्वारा चलायी गली गोली स्वाट टीम प्रभारी के बुलेट प्रुफ जैकेट में लगी, इसके बाद प्रभारी निरीक्षक शाहगंज द्वारा आत्मसुरक्षार्थ चलायी गयी गोली गो-तस्कर हारून उर्फ पप्पी पुत्र तौव्वाब उर्फ तुआब कंकाली निवासी ग्राम अढ़नपुर थाना सरपतहाँ जौनपुर को लगी। मुठभेड़ के दौरान अंधेरे का लाभ उठाकर अन्य दो गो-तस्कर भागनें में सफल रहे। 


गिरफ्तार अभियुक्त घायल गो-तस्कर हारून की निशान देही पर एक पिकप बिना नम्बर, चार राशि गोवंश तथा एक देशी तमंचा 315 बोर, एक खोखा कारतूस 315 बोर, जिन्दा कारतूस व एक मोबाइल बरामद किया गया है। गो-तस्कर हारून उपरोक्त को ईलाज हेतु जिला अस्पताल भेजा गया है।

गिरफ्तार गो तस्कर के खिलाफ अभियोग पंजीकृत करते हुए अग्रिम विधिक कार्यवाही की जा रही है। फरार अभियुक्तों की गिरफ्तारी का प्रयास किया जा रहा है। इस पुलिस ने एक बार फिर मुठभेड़ में अपनी जांबाजी की परिचय देते हुए सटीक निशाने से गोली बदमाश के वायें पैर में मारने में सफलता हासिल किया है। वह अलग बात है कि यही पुलिस अधिकार थानो के निरीक्षण के समय जब असलहा का प्रदर्शन कराते है तो असलहा भले ही खोल बन्द न कर पाते हो लेकिन मुठभेड़ के समय निशाना एक दम सही लगता है।


Comments

Popular posts from this blog

भीषण दुर्घटना एक परिवार के आठ सदस्यो की दर्दनाक मौत, पुलिस ने किया विधिक कार्यवाई, इलाके में कोहराम

जौनपुरिया दूल्हा स्टेज पर पिया गांजा तो दुल्हन ने किया शादी से इन्कार,पुलिसिया हस्तक्षेप के बाद बगैर दुल्हन के लौटे बाराती

एक लाख रुपए घूस लेते हुए लेखपाल चढ़ा एन्टी करप्शन टीम के हाथ पहुंच गया सलाखों के पीछे जेल