स्व चौधरी चरण सिंह किसानो की आवाज रहे और भ्रष्टाचार के प्रबल विरोधी थे- लाल बहादुर यादव


जौनपुर। समाजवादी पार्टी कार्यालय पर जिलाध्यक्ष लालबहादुर यादव के अध्यक्षता में पूर्व प्रधानमंत्री स्व चौधरी चरण सिंह की 120 वीं जंयती मनायी गयी। इस अवसर पर उनके चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित किया गया और उनके जीवनी पर प्रकाश डालते हुए लाल बहादुर यादव ने कहा स्व चौधरी चरण सिंह भारत के गृहमंत्री उपप्रधानमंत्री और दो बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रहे और भारत के पांचवें प्रधानमंत्री थे चरण सिंह किसानों की आवाज बुलंद करने वाले नेता थे । प्रधानमंत्री के रूप में  उनका कार्यालय 28 जुलाई 1979 से 14जनवरी 1980 तक रहा स्व चौधरी चरण सिंह की व्यक्तित्व देहाती छवि का था सादा जीवन उच्च विचार में विश्वास रखते थे। इस कारण पहनावा एक किसान की सादगी और दर्शाता था एक प्रशासक के तौर पर उन्हें काफी सिद्धांतवादी और अनुशासन प्रिय माना जाता था यह सरकारी अधिकारियों की लालफीताशाही तथा भ्रष्टाचार के प्रबल विरोधी थें चरण सिंह सामाजिक न्याय के पोषक और लोक सेवा भावना से ओतप्रोत रहे। चरण सिंह एक राजनीतिज्ञ थे और हर राजनीतिज्ञ की एक संभावित इच्छा होती है वे राजनैतिक ऊंचाइयों पर पहुंचे इनमें कुछ भी अनैतिक नहीं था चरण सिंह अच्छे वक्ता और बेतहरीन सांसद भी थे वह जिस काम को करने का मन बना लेते थें फिर उसे पूरा करके ही रहतें थें चौधरी साहब राजनीतिक में स्वच्छ रखने वाली इंसान थे जिसका जीता जागता उदाहरण यही है कि जब उनको अपनी विरासत देनी थी तो उन्होंने राजनीतिक विरासत मुलायम सिंह यादव को दिया वरासत अपने बेटे चौधरी अजीत सिंह को नहीं दिया वें अपने समकालीन लोगों को समान गांधीवादी विचारधारा में यकीन रखते थे। स्वत्रंतता प्राप्त करने के बाद गांधी टोपी को कई बड़े नेताओं ने त्याग दिया था लेकिन चौधरी चरण सिंह ने इसे जीवन पर्यन्त धारण किए रखा जंयती समारोह में मुख्य रूप से यशवंता यादव, राजेंद्र यादव, टाइगर,प्रवक्ता राहुल त्रिपाठी,दीपचंद राम,श्रवण जयसवाल,आशा राम यादव, पूनम मौर्या, गप्पू मौर्या, आनंद मिश्रा, कलीम अहमद,कमालुद्दीन अंसारी  मनोज मौर्या, रतन साहू, कृष्णा यादव,विकास यादव,सोनी यादव, तारा त्रिपाठी,गुड्डू सोनकर, भानु प्रताप मौर्या, मेवालाल गौतम,धर्मेंद्र सोनकर,दिनेश फौजी, महेश साहू,अरुण यादव,संचालन जिलाउपाध्यक्ष श्याम बहादुर पाल ने किया।

Comments

Popular posts from this blog

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?

स्वामी प्रसाद मौर्य के कार्यालय में तोड़फोड़ गोली भी चलने की खबर, पुलिस जांच पड़ताल में जुटी

लोकसभा चुनाव के लिए सायंकाल पांच बजे तक मतदान का प्रतिशत यह रहा