जौनपुर में स्वर्ण व्यवसायी को गोली मारकर हत्या कर लूट करने वाले बदमाश मुठभेड़ में गिरफ्तार,दो के पैर में लगी गोली


जौनपुर। थाना बक्सा क्षेत्र स्थित फतेहगंज बाजार में 23 दिसम्बर 23  को हुई स्वर्ण व्यापारी की गोलियां बरसाकर हत्या कर लूट की घटना को अंजाम देने वाले बदमाशों को  पुलिस टीम ने देर रात थाना बक्शा स्थित सुजियामऊ के पास से गिरफ्तार कर लिया है। जिसमे दो बदमाश पुलिस की गोली से घायल हुए है। उनके कब्जे से एक पिस्टल , खोखा व जिंदा कारतूस,एक तमंचा खोखा व जिंदा कारतूस , घटना में प्रयुक्त बाइक पल्सर बिना नम्बर, एक मोबाईल, लूट का नौ जोड़ी चांदी का पायल , आठ जोड़ी बिछिया व 31500 रूपये नगद बराम हुआ है। 
पुलिस द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार 23 दिसम्बर की शाम  बक्सा थाना क्षेत्र के फतेजगंज बाजार से सर्राफा की दुकान बंद कर उमेश चन्द सेठ घर जा रहे थे कि रास्ते में अज्ञात बदमाशों द्वारा लूट करने के दौरान उन्हे गोली मार दी गई थी, जिससे उनकी मृत्यु हो गयी।पुलिस अधीक्षक  डॉ अजय पाल शर्मा द्वारा घटना के अनावरण एवं अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु सात टीमों का गठन कर निर्देशित करते हुए लगाया गया था। टीमें लगातार गिरफ्तारी के लिए काम कर रही थी। इसी क्रम में बीती रात में  थानाध्यक्ष बक्शा ,प्रभारी निरीक्षक जफराबाद , प्रभारी निरीक्षक केराकत , प्रभारी निरीक्षक शाहगंज , थानाध्यक्ष मुंगराबादशाहपुर , प्रभारी निरीक्षक जलालपुर , एसओजी प्रभारी जौनपुर की संयुक्त टीम अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु थाना बक्शा क्षेत्र में चेकिंग कर रही थी कि सुजियामऊ के पास चुरावनपुर मोड़ के पास एक मोटरसाइकिल आती हुई दिखाई दी, जिसे पुलिस द्वारा रोकने का प्रयास किया गया तो मोटरसाइकिल सवार बदमाशों ने पुलिस पर फायर कर दिया। पुलिस द्वारा भी जवाबी फायरिंग की गयी ,जिसमें दो बदमाश विकास यादव उर्फ भुन्डु पुत्र सुग्रीव यादव निवासी खरौना थाना बक्सा उम्र 23 वर्ष, 2- शुभम यादव पुत्र बचोले उर्फ बच्चन यादव निवासी सरायरायचन्द थाना बक्सा उम्र 24 वर्ष गोली लगने से घायल हो गये। घायल बदमाश को प्राथमिक उपचार हेतु सीएचसी नौपेड़वा भेजा गया तथा बेहतर ईलाज हेतु जिला अस्पताल रेफर किया गया। एक अन्य अभियुक्त मणि उर्फ हुबेदार यादव पुत्र पूर्ण मासी यादव निवासी किड़वारी थाना मड़ियाहूं उम्र 47 वर्ष को मौके से भागते समय गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार अभियुक्तों के कब्जे से घटना में प्रयुक्त मोटरसाइकिल, एक पिस्टल मय खोखा व जिंदा कारतूस, एक अवैध तमंचा मय कारतूस , मोबाईल, लूटा हुआ सामान नौ जोड़ी चांदी की पायल, आठ जोड़ी बिछिया व 31500 रुपया नगद बरामद किया गया है। 


पुलिस ने सभी गिरफ्तार अभियुक्तो के खिलाफ विधिक कार्यवाई भी किया है। पुलिस की इस गिरफ्तारी पर एक सवाल जरूर उठ रहा है कि गिरफ्तार सभी के खिलाफ कोई अपराधिक इतिहास नहीं है। खरौना गांव के ग्रामीण सभी को पढ़ाई करने वाले छात्र बता रहे है। आखिर सच क्या है पुलिस कहीं असली अपराधियों को सुरक्षित तो नहीं कर गयी और मुठभेे के साथ हत्या और लूट काण्ड मे गिरफ्तार कर एक नये अपराधी को पैदा करने का काम कर गयी है। जो भी हो अगर पूरे कहांनी की उच्च स्तरीय जांच हो जाए तो सच का खुलासा संभव है।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद