फर्जीवाड़े में गिरफ्तार बेसिक शिक्षा का संविदा कर्मी आनन्द सिंह बड़ा घोटाला बाज भी रहा




जौनपुर  । बेसिक शिक्षा विभाग में फर्जीवाड़े का खुलासा होने के बाद अब नये नये आर्थिक घोटालों का मामला प्रकाश में आ रहा है। जिसमें गिरफ्तार जालसाज आनन्द सिंह की संलिप्तता पायी जा रही है। हलांकि की अधिकारी अभी कुछ कहने की स्थिति में स्वयं को नहीं पा रहे हैं लेकिन विभाग के अन्दर खलबली मची हुई है। हर कर्मचारी सहमा हुआ है कि कब उसका गिरेबान सुरक्षा बलों के हाथ लग जायेगा कहा नहीं जा सकता है ।
कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय से सम्बंधित दो मामले सामने आये है। पहला मामला तो खाद्यान घोटाले का है। 22 मार्च 2020  को देश में लाक डाऊन शुरू होने के पहले ही 14 मार्च 20 को ही कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालयों से बच्चे अपने घरों को चले गये और सरकार के निर्णयानुसार अभी तक बच्चे विद्यालय में वापस नहीं पहुंचे है। इस बीच की अवधि में कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय को खाद्यान की आपूर्ति सरकारी अभिलेख में दिखाते हुए भुगतान किये जा चुके हैं । जब बच्चे नहीं है तो खाद्यान का क्या हुआ कहाँ गया एक गम्भीर सवाल है। 
यहाँ बतादे कि शासनदेश के तहत कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय में बच्चों को भोजन देने के लिए गेहूं चावल आदि खाद्यान सरकार बजरिए टेन्डर से देती है। टेन्डर  जनपद बस्ती के  किसी अग्रहरी का है।  जिसका लेखा जोखा गिरफ्तार आनन्द सिंह रखता था और विद्यालय की प्रभारी भोजन बनवाती रही है। सरकारी रिकार्ड के अनुसार एक विद्यालय पर प्रति माह डेढ़ लाख रुपये का खाद्यान आता है। इस तरह जिले के 19 कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय का हिसाब किया जाये तो लगभग 28 लाख 50 हजार रुपये प्रति माह का खेल गिरफ्तार आनन्द सिंह द्वारा किया गया है। इस तरह आनन्द सिंह  जालसाज होने के साथ साथ बड़ा घोटाला बाज भी संभावित हैं। खाद्यान की आपूर्ति का ठीकेदार ने आनन्द सिंह को एक बुलेट मोटरसाइकिल भी गिफ्ट में दिया तो देश भ्रमण के तहत कन्या कुमारी तक अपने खर्च से यात्रा भी कराया है। 
लाक डाऊन अवधि में खाद्यान तो आया नहीं लेकिन कागज में भुगतान किया गया पैसे में कितने हिस्सेदार है यह तो जांच से साफ होगा लेकिन यहाँ पर खाद्यान के नाम पर बड़ा घोटाला किया गया है। अब सवाल यह है कि क्या इस घोटाले की जांच करायी जायेगी या प्रशासनिक किरकिरी से बचने के लिए मामले को दबा दिया जायेगा।  
दूसरे घोटाले की चर्चा अगले अंक में होगी 

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद