हिन्दी पत्रकारिता के गिरते स्तर के कारण आज वह संकट के दौर से गुजर रही है - डॉ अखिलेश्वर शुक्ला


हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर राज कालेज के शिक्षकों ने किया वृक्षारोपण


जौनपुर। राजा श्री कृष्ण दत्त स्नातकोत्तर महाविद्यालय परिसर में हिंदी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर ऑक्सीजन उत्सर्जन करने वाला वृक्ष फाइकस एवं नीम रोपण करते हुए महाविद्यालय के प्राचार्य कैप्टन डॉ० अखिलेश्वर शुक्ला ने कहा कि भारतीय भाषा हिंदी एवं प्रारंभिक दिनों में हिंदी पत्रकारिता की महती भूमिका के बावजूद भी वर्तमान समय में यह संकट के दौर से गुजर रही है कारण स्पष्ट है कि एक तरफ हिंदी भाषा के प्रति उपेक्षा का भाव और दूसरी तरफ पत्रकारिता का गिरता हुआ स्तर मुख्य है।आज के संक्रमण काल में जिस प्रकार जीवन के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता है उसी प्रकार निष्पक्ष एवं तटस्थ पत्रकारिता की आवश्यकता है।
मुख्य अनुशास्ता हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ० सुधा सिंह ने कहा कि 30 मई 1826 को हिंदी का प्रथम समाचार पत्र उदंत मार्तंड का  प्रकाशन कोलकाता से पंडित जुगल किशोर शुक्ला के संपादन में प्रकाशित हुआ। हिंदी पत्रकारिता का हमारे देश में स्वर्णिम इतिहास रहा है। आजादी के आंदोलन से आज तक इस की महती भूमिका दृष्टव्य है। निष्पक्ष पत्रकारिता लोकतंत्र की प्रबल आवश्यकता है।
डॉ ० श्याम सुंदर उपाध्याय एवं डॉ मधु पाठक ने कहा कि यह लोकतंत्र का चौथा और मजबूत स्तंभ है एक छोटी सी कलम समाज और देश में बड़ी क्रांति ला सकती है। इस अवसर पर कोविड-19 के नियमों और निर्देशों का पालन करते हुए डॉ अखिलेश कुमार गौतम डॉ राजेंद्र सिंह डॉक्टर चंद्रा अंबुज कश्यप डॉ मनोज कुमार तिवारी एवं कार्यालय अधीक्षक संजय कुमार सिंह लेखाकार सुधाकर मौर्य स्वयं यादव सौरभ उपाध्याय मनोज बहेलिया धर्मेंद्र मौर्य आदि उपस्थित रहे सभी ने देश के कर्म ही समर्पित पत्रकारों को हार्दिक बधाई देते हुए ढेरों शुभकामनाएं व्यक्त किया। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीईटी साल्वर गिरोह का हुआ भन्डाफोड़, दो गिरफ्तार,एक जौनपुर दूसरा सोनभद्र का निकला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम

प्रेम प्रपंच में युवकों की जमकर पिटाई, प्रेमी की इलाज के दौरान मौत तो दूसरा साथी गंभीर