यूपी भाजपा के उठा पटक के बाद नतीजा रहा शून्य, जानें 2022 किसके नेतृत्व में फतह की है योजना



उत्तर प्रदेश में सरकार और संगठन के बीच चल रही रस्सा कस्सी के चलते विगत लगभग एक सप्ताह तक आरएसएस भाजपा संगठन तथा सरकार के बीच चली बैठकों का नतीजा आखिर कार शून्य रहा। राजनैतिक गलियारे में सत्ता और संगठन में बदलाव के कयास को अब संघ लोंगो ने विराम लगते हुए संकेत दे दिया है 2022 विधानसभा का चुनाव वर्तमान मुख्यमंत्री एवं प्रदेश अध्यक्ष के ही नेतृत्व में लड़ा जायेगा। 
हलांकि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज हो गई हैं. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अंदरखाने मतभेद की खबरों के बीच पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष ने लखनऊ में कई दिनो तक मंथन किया. इस मंथन के बाद बड़ी खबर निकल कर बाहर आई है कि यूपी में संगठन में कोई बड़ा बदलाव नहीं होगा।
सूत्रों की माने तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के नेतृत्व में ही बीजेपी आगामी विधानसभा चुनाव में जाएगी। अगले एक या दो हफ़्ते में यूपी कैबिनेट में बड़े फेरबदल होंगे, जिसमें कई नए चेहरों को जगह मिल सकती है। साथ ही यह भी तय हो गया है कि ए के शर्मा को यूपी सरकार में बड़ी जिम्मेदारी मिलेगी।
यूपी में प्रदेश अध्यक्ष के बदलने की अटकलों को पार्टी केंद्रीय नेतृत्व की तरफ़ से विराम लगा दिया गया है। यूपी चुनाव से पहले संगठन और सरकार की समन्वय बैठकें लगातार होंगी. पिछले दिनों लखनऊ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सहकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले ने संघ के पदाधिकारियों और बीजेपी के बड़े नेताओ से फ़ीड बैक लिया था.
सहकार्यवाह दत्तात्रेय होसबले के फ़ीडबैक के आधार पर बीजेपी ने संगठन महासचिव बीएल संतोष को लखनऊ में भेजा था. उन्होंने तीन दिन तक कई बैठकें की. केशव मौर्य, स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई मंत्रियों से बीएल संतोष ने मुलाकात की. इसके अलावा बीएल संतोष ने संघ और पार्टी के शीर्ष पदाधिकारियों के साथ भी बैठक किया।
इस बीच खबर वायरल हुई कि बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह को बदल सकती है. उनकी जगह उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को पार्टी प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी दी जा सकती है, लेकिन अभी केंद्रीय नेतृत्व किसी भी तरह का रिस्क लेने के पक्ष में नहीं हैं. सूत्रों के अनुसार, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा जुलाई में यूपी के दौरे पर आयेंगे। 
बीएल संतोष की बैठक के दौरान सबसे ज्यादा चर्चा ए के शर्मा को लेकर हुई. सबके मन में सवाल था कि क्या ए के शर्मा को योगी मंत्रिमंडल में कोई अहम जिम्मेदारी दी जाएगी? सूत्रों के मुताबिक, ए के शर्मा को मंत्रिमंडल में जगह देकर बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है. उनके हाथ में ब्यूरोक्रेसी की कमान सौंपने की भी चर्चा है।
हालांकि खबर यह भी है कि योगी आदित्यनाथ और ए के शर्मा के बीच केमिस्ट्री सहज नहीं है और ऐसे में योगी ए के शर्मा के एंट्री को लेकर नाराज भी हैं और नहीं चाहते हैं कि उनकी एंट्री ऐसे पद पर हो जहां से यह संदेश जाए कि सरकार में दो पॉवर सेंटर हैं, लेकिन पार्टी हाईकमान ने ए के शर्मा को बड़ी जिम्मेदारी देने का फैसला कर लिया है। इसका क्या असर होगा यह तो भविष्य के गर्भ में है लेकिन सरकार में दो पावर का होना पार्टी के लिए सुखद संदेश नही माना जा रहा है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा ने पहले फेज के चुनाव हेतु प्रत्याशियों की जारी की सूची इन लगाया दांव

थाने में खड़ी गाड़ियां दीवान ने कबाड़ी को बेचीं, एसपी ने किया निलंबित, कबाड़ी भी गिरफ्तार

आइए जानते है मुन्ना बजरंगी के भाई को पुलिस ने क्यों किया गिरफ्तार