यूपी में चुप गुप तरीके से अधिकारियों स्थानांतरण प्रशासनिक गलियारे में चर्चा का बिषय



प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में व उनकी पार्टी में सबकुछ ठीक चल रहा है या नहीं, यह कहना मुश्किल जरूर है। लेकिन पिछले कई दिनों से प्रशासन में फेरबदल जोरों पर है। लगातार अधिकारियों के तबादले हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग, पुलिस विभाग, आबकारी विभाग से लेकर उच्च स्तर तक के अधिकारियों को बदलने का कार्य लगातार जारी है। ऐसा माना जा रहा है कि अगले कुछ दिनों में कई विभागों में भारी पैमाने पर तबादले हो सकते हैं। खबर आ रही है कि प्रदेश सरकार ने बीती रात यानी गुरुवार को कई आईएएस अधिकारियों को इधर से उधर कर दिया है। लेकिन, इस खबर को सार्वजनिक नहीं किया। बताया जा रहा है कि बीती रात में चार जिलाधिकारियों समेत कुछ प्रमुख सचिव के तबादलों को हरी झंडी दिखा दी गई। ऐसा पहली बार नहीं है, जब सरकार ने ट्रांसफर्स को सार्वजनिक नहीं किया। इससे पहले भी योगी सरकार ने कई तबादलों को गुप्त रूप से ही कर दिया था।
यूपी में आधी रात को जिन IAS अफसरों के तबादले हुए हैं, उसमें रामी रेड्डी, बीएल मीणा और सुधीर गर्ग का नाम प्रमुख रूप से शामिल है। शासन सूत्रों के मुताबिक- रामी रेड्डी को सहकारिता से हटाकर उद्यान विभाग का अपर मुख्य सचिव बनाया गया। वहीं, बीएल मीणा को रामी रेड्डी की जगह सहकारिता का एसीएस बनाए जाने की खबर है। साथ ही सुधीर गर्ग को वन विभाग से हटाकर दुग्ध विभाग के प्रमुख सचिव बनाए जाने की सूचना मिली है। इसके अलावा चार जिलाधिकारियों व कई प्रमुख सचिव के भी ट्रांसफर्स की खबर है। हालांकि, अभी तक इन तबादलों की सूची को सार्वजनिक नहीं किया गया है। 
 शासन सूत्रों के मुताबिक- राकेश कुमार सिंह को डीएम गाजियाबाद, अरविंद चौरसिया को लखीमपुर का जिलाधिकारी, अंकित अग्रवाल को डीएम एटा, बालकृष्ण त्रिपाठी को डीएम अमरोहा और शैलेंद्र सिंह को मुरादाबाद का जिलाधिकारी बनाए जाने की ख़बर है। साथ ही नरेंद्र शंकर पांडेय को झांसी मंडल का कमिश्नर भी बनाए जाने की सूचना मिली है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

विधायक और सपा नेता के बीच मारपीट की घटना का जानें सच है क्या,आखिर जिम्मेदार के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं

स्वागत कार्यक्रम में सपाईयों के बीच मारपीट की घटना से सपा की हो रही किरकिरी

हलाला के नाम पर मुस्लिम महिला के साथ सामुहिक दुष्कर्म, मुकदमा दर्ज मौलाना फरार