जमीनी विवाद को लेकर एक भाई बन गया अपने सगे भाई का कातिल,मुकदमा दर्ज हत्यारो की तलाश जारी


जौनपुर। एक मुहावरा है हत्याएं अधिकांशतः जर जोरू जमीन के लिए होती है यह मुहावरा जनपद के थाना खेतासराय स्थित नगर पंचायत खेतासराय के पोस्ट ऑफिस वार्ड में सोमवार की रात को चरितार्थ हो गया और जमीन के बंटवारे को लेकर सगे भाई ने अपने भाई के परिवार पर जमकर लाठी-डंडे से हमला कर इतना मारा कि उपचार के दौरान घायल भाई की मौत हो गयी है।
खबर है कि मृतक भाई के दो बेटे जख्मी हो गए।जिन्हें पीएचसी के बाद जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां उपचार के दौरान अनिरुद्ध की मौत हो गई। खेतासराय के पोस्ट ऑफिस वार्ड निवासी अनिरुद्ध प्रसाद पुत्र अछैबर 55 वर्ष का अपने सगे भाई पूरनमल से जमीन बंटवारे को लेकर विवाद चल रहा था।अनिरुद्ध को प्रधानमंत्री आवास मिला हुआ था,जिसे वह बनवाना चाहता था। जिसके लिए जमीन का मौखिक बटवारा हुआ था। इसके बाद भी पूरनमल का परिवार आवास बनने में अवरोध उत्पन्न कर रहे थे। परिजनों के मुताबिक अनिरुद्ध ने करीब एक माह पहले पुलिस को प्रार्थना पत्र देकर कार्यवाही की मांग किया था।लेकिन पुलिस ने कोई कार्यवाही में रुचि नहीं दिखाई। सोमवार की रात दोनों में झगड़ा हो गया। दोनों के परिजन भी जुट गए।पूरनमल पक्ष की तरफ से आधा दर्जन की संख्या में लोगों ने लाठी-डंडे से हमला बोल दिया।जिसमें अनिरुद्ध और उनके बेटे आशीष, मनीष की लाठी डंडे से पिटाई कर दी। तीनों गंभीर रूप से घायल हो गए। परिवार के लोग घायलों को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सोंधी ले गए।जहां चिकित्सकों ने तीनों को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया।जहां उपचार के दौरान अनिरुद्ध की मौत हो गई। मौत की खबर के बाद रात में ही काफी संख्या में लोग घर पर जुट गए। दूसरी तरफ यह भी बताया जा रहा है कि जिस समय हमला हुआ उस समय अनिरुद्ध का परिवार सो रहा था।बस्ती में माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है। इस बाबत खेतासराय एसओ राजेश यादव ने कहा कि जमीन के बंटवारे को लेकर भाई-भाई में मारपीट हो गई थी। इस दौरान तीन लोग घायल हो गए थे। जिन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां एक की मौत हो गई। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है, आगे की कार्रवाई की जा रही है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर रात एक छात्रा को बंगले पर भेजो'SDM पर महिला हॉस्टल की अधीक्षीका ने लगाया 'गंदी डिमांड का आरोप; अधिकारी ने दी सफाई

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर

महज 20 रूपये के लिए रेलवे से लड़ा 22 साल मुकदमा और जीता,जानें क्या है मामला