प्रो. दीपक पठानिया को मिलेगा रसायन विज्ञान में डी. एससी की उपाधि



कैंसर रोगियों की चिकित्सा में सहायक होगी शोध: प्रो.एके श्रीवास्तव
जौनपुर । वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के उमानाथ सिंह इंजीनियरिंग संस्थान के पूर्व संकायध्यक्ष एवं रसायन विज्ञान ‌विभाग के अध्यक्ष प्रोफ़ेसर अशोक कुमार श्रीवास्तव के संरक्षण में प्रो.दीपक पठानिया, डीन अकादमिक मामले, एस वी पी सी विश्वविद्यालय, मंडी, हिमाचल ने डी.एससी की उपाधि की प्रक्रिया पूरी की। 2021 के 25 वें दीक्षांत समारोह में यह उपाधि उन्हें उत्तर प्रदेश के राज्यपाल एवं कुलाधिपति माननीय श्रीमती आनंदीबेन पटेल के हाथों मिलेगी। उनके अनुसंधान का विषय थाकार्सिनोजेनिक प्रदूषकों के सोखना-फोटोकैटलिटिक गिरावट और बैक्टीरियल प्रदर्शन की निष्क्रियता के लिए बायोचार समर्थित नैनोकम्पोजिट्स का हरित संश्लेषण। उन्हें यह उपाधि रसायन विज्ञान विषय में मिलेगी।
यह  डी.एससी. पूर्वांचल विश्वविद्यालय के परिसर से प्रदान की जाने वाली रसायन विज्ञान में पहली डिग्री होगी। प्रोफेसर श्रीवास्तव ने बताया कि अनुसंधान के इस टॉपिक से कैंसर रोगियों के इलाज में काफी मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस अनुसंधान को प्रोफ़ेसर पठानिया ने पेटेंट भी करा लिया है। प्रोफेसर अशोक श्रीवास्तव के संरक्षण में यह अनुसंधान एक अलग तरह का अनुसंधान है। जो चिकित्सा के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगी।
गौरतलब है कि युवा वैज्ञानिक पठानिया के अब तक 160 से अधिक शोध कार्य विभिन्न अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय वैज्ञानिक पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं। 21 अध्याय अलग-अलग किताबों में लिख चुके हैं। उनकी 14 पुस्तकें, 17 पीएचडी, 14 एमफिल और 42 एमएससी विद्यार्थियों को उनके शोध कार्य और शोध प्रोजेक्ट्स में गाइड करने के साथ लगभग डेढ सौ सम्मेलनों में अपने शोध पत्र प्रस्तुत कर चुके हैं।
वर्तमान में वे कई विश्वविद्यालयों में बोर्ड ऑफ स्टडीज और विभिन्न कमेटियों के अध्यक्ष और सदस्य हैं। वे जम्मू केंद्रीय विश्वविद्यालय में विज्ञान संकाय के डीन और शिक्षक संघ के प्रधान भी रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर का बेटा बना यूनिवर्सिटी आफ टोक्यो जापान में प्रोफ़ेसर, लगा बधाईयों का तांता

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी