सीएम योगी का फिर चला डन्डा, तत्कालीन शिक्षा निदेशक हुए निलंबित, जानें क्या रहा आरोप


 मुख्यमंत्री योगी ने तत्कालीन शिक्षा निदेशक (माध्यमिक) विनय पांडये को निलंबित करने का आदेश दिया है ,आधिकारिक कर्तव्यों का ठीक से निर्वहन नहीं करने, सरकारी कार्यों के प्रति लापरवाही और उदासीनता और सरकारी स्तर के निर्देशों का पालन न करने के लिए प्रथम दृष्टया दोषी मिले हैं।
विनय पांडे को 21 अप्रैल को माध्यमिक शिक्षा निदेशक के पद से हटा दिया गया था और उन्हें साक्षरता वैकल्पिक शिक्षा, उर्दू और प्राच्य भाषाओं के निदेशक के रूप में तैनात किया गया था। पिछले महीने बलिया में प्रश्नपत्र लीक होने के बाद 24 जिलों में उत्तर प्रदेश माध्यमिक विद्यालय बोर्ड की परीक्षा रद्द कर दी गई थी। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने मामले में कड़े राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को लागू करने का आदेश दिया था। रद्द की गई परीक्षा 13 अप्रैल को फिर से आयोजित की गई थी।
मुख्यमंत्री कार्यालय के एक ट्वीट में कहा गया, "मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा आधिकारिक कर्तव्यों के निर्वहन में लापरवाही पर एक और सख्त कार्रवाई। तत्कालीन शिक्षा निदेशक (माध्यमिक) को निलंबित कर दिया गया।"

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ