रक्तदान मानवता का सबसे बड़ा दान : प्रो.निर्मला एस.मौर्य


सेवा पखवाड़ा के अन्तर्गत पीयू में हुआ रक्तदान शिविर का आयोजन पांच दर्जन शिक्षकों,कर्मचारियों एवं छात्रों ने किया रक्तदान

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के फार्मेसी संस्थान में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के 72 वें जन्मदिन के उपलक्ष्य में 17 सितम्बर से 2 अक्टूबर 2022 तक आयोजित सेवा पखवाड़ा के अन्तर्गत आज रक्तदान शिविर का आयोजन राष्ट्रीय सेवा योजना एवं आईएमए, जौनपुर के संयुक्त तत्वावधान में हुआ,जिसका उदघाट्न कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य ने किया।अपने उद्बोधन में कुलपति ने कहा कि रक्तदान मानवता का सबसे बड़ा दान है।रक्तदान करके हम किसी की जान बचा सकते हैं।उन्होंने समस्त रक्तदाताओं को प्रमाणपत्र वितरित करते हुए शुभकामनाएं दी।कुलसचिव महेंद्र कुमार ने कहा कि आजादी के समय नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने नारा दिया था कि तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा।आज यह नारा होना चाहिए कि तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें मानवता दूंगा। डिप्टी सीएमओ डॉ एस.के.जायसवाल ने भी अपने विचार व्यक्त किये।डॉ सलिल यादव ने रक्तदान के महत्व के बारे में बताया।डीएसडब्लू प्रो. अजय द्विवेदी ने विश्वविद्यालय की इस पहल का स्वागत किया।समन्वयक डॉ. राकेश कुमार यादव ने कार्यक्रम की रूपरेखा का वर्णन किया। संचालन प्रो. मानस पाण्डेय ने और धन्यवाद ज्ञापन डॉ आलोक गुप्ता ने दिया।
इस रक्तदान शिविर में डॉ आलोक गुप्ता, रामगोपाल, अखिलेश कुमार शुक्ला, गोपाल निषाद, अजय सिंह, कमलनयन साहू ,अर्पित, हर्षित श्रीवास्तव,अश्विनी कुमार मौर्य,अजय सिंह,अनुराग कुमार शर्मा,अनामिका सिंह रघुवंशी, आशीष श्रीवास्तव, सौरभ सिंह राजपूत, गोविंदा भारती ,आलोक कुमार मिश्रा सहित 59 लोगों नें रक्तदान किया।कार्यक्रम को सम्पन्न कराने में रक्तदान प्रभारी डॉ. विनय कुमार वर्मा,ब्लड बैंक के प्रभारी अशोक कुमार तथा ब्लड बैंक तकनीशियन सौरभ शर्मा, राहुल शर्मा ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।दिव्यांशु सिंह ने सभी रक्तदाताओं को अमरूद के पौधे प्रदान किये। इस अवसर पर डॉ नृपेंद्र सिंह, डॉ झांसी मिश्रा, डॉ विजय बहादुर मौर्य, डॉ लक्ष्मी प्रसाद मौर्य,आशुतोष सिंह सहित विभिन्न शिक्षक,कर्मचारी एवं छात्र उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भीषण सड़क दुर्घटना में दस लोगो की मौत दो दर्जन गम्भीर रूप से घायल, उपचार जारी

यूपी में जौनपुर के माधोपट्टी के बाद संभल औरंगपुर जानें कैसे बना आइएएस आइपीएस की फैक्ट्री

जानिए इंटर के छात्र ने प्रधानाचार्य को गोली क्यों मारी, हालत नाजुक, छात्र पुलिस पकड़ से दूर