नेताजी मुलायम सिंह यादव अपनों को समय मिलते ही उपर उठाते रहे है


लखनऊ: समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव को कौन नहीं जानता होगा, और उनकी दरियादिली भी जग जाहिर है। राजधानी लखनऊ के हाफिज सलमानी तो उनकी दरियादिली के कसीदे पढ़ते नहीं थकते। हाफिज सलमानी बताते हैं कि 1985 से वो उनके घर बाल काटने जाया करते थे, एक दिन मुलायम सिंह से हाफ़िज़ सलमानी से कहा- कि तुम कुछ माँगना चाहो तो मांग सकते हो। इस पर हाफिज ने उनसे उस समय हजरतगंज की जनपथ मार्केट में एक दुकान की मांग रख दी। लेकिन उस समय मुलायम सिंह यादव हाफ़िज़ की खाव्हिश पूरी न कर सके।

मुख्यमंत्री बनते ही गिफ्ट करी दुकान

जब 1988 में समाजवादी पार्टी की सरकार बनी और मुलायम सिंह यादव मुख्यमंत्री बने उन्होंने एक सरकारी आफिस को खाली करवाकर उस समय 5 लाख की कीमत की एक दुकान हाफिज को भेंट की थी। इसके बाद हाफिज ने वहां बांबे मेंस पार्लर खोला। इसकी एक ब्रांच उसने जानकीपुरम में भी खोली। हाफिज की दुकान में काम करने वाले कमाल सलमानी ने बताया कि नेताजी के अलावा यहां कई आईएएस और समाजवादी नेताओं का आना जाना है।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद