समग्र शिक्षा आज समय की मांग- डॉ राजेश त्रिपाठी




जौनपुर। नई शिक्षा नीति 2020 के एक  वर्ष पूरे होने के अवसर पर प्रस्तावित आठ दिवसीय वेबिनार श्रृंखला के अंतर्गत सोमवार को वीर  बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग द्वारा बहुआयामी और समग्र शिक्षा विषय पर वेबिनार का आयोजन  किया गया।
 कार्यक्रम में बतौर मुख्य वक्ता पेट्रोलियम एवं ऊर्जा अध्ययन विश्वविद्यालय देहरादून के स्कूल ऑफ बिजनेस  के मीडिया एवं जनसंपर्क के संयोजक  डॉ. राजेश त्रिपाठी ने कहा कि समग्र शिक्षा  आज के समय की मांग है। आज के बाजारवाद और उपभोक्तावाद के समय में व्यक्ति से यह अपेक्षा की जाती है कि उसे सर्वविद्या का ज्ञान हो।जिस तरह से समय बदल रहा है और नई तकनीकी प्रभावी हो रही है उसके अनुसार आज के दौर में कई बहुराष्ट्रीय कंपनियां और  संस्थान अपने कर्मियों से समग्र कौशल यानि मल्टी टास्किंग की अपेक्षा रखती हैं। इसे देखकर कहा जा सकता है कि समग्र शिक्षा आज की आवश्यकता  है। आज इस बात की भी जरूरत है। शिक्षण संस्थानों में या  आप तकनीक क्षेत्र से हों तो भी आपको संचार कौशल एवं व्यवहारिक ज्ञान होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जब भी हम समग्र ज्ञान की बात करते हैं तो हम अपने पुरातन आदर्शों को देखते हैं । 
हम जानते हैं कि भगवान श्री कृष्ण 16 कलाओं में महारथ रखते थे। श्रीमद्भागवत गीता से भी यह सिद्ध होता है कि भगवान कृष्ण को जीवन के सभी व्यावहारिक क्षेत्रों का ज्ञान था। हमारे प्राचीन विश्वविद्यालय तक्षशिला नालंदा कहीं न कहीं समग्र ज्ञान दक्षता पर ही ध्यान देते थे।इसलिए नई राष्टीय शिक्षा नीति में भी समग्र शिक्षा की बात की गई है। 
उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के विजन राष्ट्रीय शिक्षा नीति में एक ऐसे कम्यूनिटी कारीडोर की बात की गई है जिसमें छात्रों को भाषा पाठयक्रम आदि की बाध्यताओं से मुक्त होकर रूचि अनुसार विषय चुनने की आजादी दी गई है। पूर्ववर्ती शिक्षा प्रणाली पर डिग्री होल्डर्स के रूप में बेरोजगारों की फौज तैयार करने के आरोप लगते रहे हैं लेकिन नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में इसी बात को दूर करने का प्रयास किया गया है कि सिर्फ डिग्री होल्डर्स ही न तैयार हों बल्कि वे अपनी रूचि के अनुसार कौशल विकास कर रोजगार भी प्राप्त कर सकें। हमारी नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में ज्ञान व दक्षता कौशल की बात की गई है जिसके दूरगामी परिणाम बहुत अच्छे होने वाले हैं।
कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत एवं संचालन  जनसंचार विभाग के अध्यक्ष डॉ मनोज मिश्र ने किया।धन्यवाद ज्ञापन डॉ सुनील कुमार तथा तकनीकी संयोजन मनोज लीला भट्ट द्वारा किया गया।इस अवसर पर प्रो मानस पांडेय,प्रो देवराज,आचार्य विक्रमदेव, डॉ राकेश यादव,डॉ प्रदीप कुमार,डॉ प्रमोद यादव,डॉ गिरिधर मिश्र,डॉ पुनीत धवन,डॉ अवध बिहारी सिंह,डॉ सुनील कुमार,डॉ चंदन सिंह,डॉ संजीव गंगवार,डॉ तरुणा गौड़,डॉ संतोष पांडेय सहित प्रतिभागी उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

आज से लगातार 08 दिनों तक बैंक रहेंगे बन्द जानें इस माह में कितने दिवस होगे काम काज

यूपी के गांव में जमीनी विवाद खत्म करने के सरकार ने बनायी यह योजना,नहीं होगी मुकदमें की नौबत