सफलता की कुंजी अपनी मातृभाषा में कार्य करने में है निहित - प्रो निर्मला एस.मौर्य


जौनपुर । वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के प्रबंध अध्ययन संकाय के अंतर्गत हिंदी दिवस सप्ताह-2021 के कार्यक्रम के समापन समारोह में आज विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य ने कार्यक्रम में प्रतिभागियों को प्रमाणपत्र  वितरित किया। इस कार्यक्रम को उन्होंने संबोधित करते हुए कहा कि जब कोई व्यक्ति अपनी मातृ भाषा में चिंतन करता है तो उसका परिणाम सर्वश्रेष्ठ होता हैं । उन्होंने बताया सफलता की कुंजी अपनी मातृभाषा में कार्य करने में निहित है और कहा कि किसी भी व्यक्ति को जितनी अधिक भाषाएं आती हों वह उतना ही सफल हो सकता है । 
कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि विश्वविद्यालय के वित्त अधिकारी संजय कुमार राय ने कहा कि पूर्वांचल विश्वविद्यालय के छात्रों में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है, उन्हें सकारात्मक दिशा देने की आवश्यकता है। जो कि विश्वविद्यालय के आचार्यगण सतत अपनी मेहनत से कर रहे हैं । कार्यक्रम में सभी  अतिथियों का स्वागत करते हुए संकायाध्यक्ष प्रो. अविनाश पाथर्डीकर ने कहा कि हिंदी एक वैज्ञानिक भाषा है, उसकी शक्ति उसको बोलने में है निहित है। उन्होंने बताया कि वर्ल्ड इकोनामिक फोरम के अनुसार वर्ष 2050 तक हिंदी विश्व की सबसे शक्तिशाली भाषा होगी, पर आवश्यकता है इसे आत्मसात करने की । 
हिंदी सप्ताह में आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताएं जिनमें काव्य-पाठ, वाद-विवाद, रंगोली, पोस्टर प्रस्तुतिकरण के विजेता छात्रों को प्रशस्ति पत्र वितरित किए गए । काव्य पाठ में निष्ठा सिंह प्रथम, अंकित मिश्रा को द्वितीय, आदित्य नारायण सिंह तृतीय स्थान पर रहे I वही वाद-विवाद प्रतियोगिता में आकांक्षा बहेलिया एवं आयुष गुप्ता को संयुक्त रूप से प्रथम, आशुतोष तिवारी  को  द्वितीय,  एवं  गणेश पाठक को तृतीय स्थान प्राप्त हुआ। रंगोली प्रतियोगिता में बी. कॉम की कषिका श्रीवास्तव समूह को प्रथम, बी.कॉम की प्रियांशु प्रधान समूह को द्वितीय, एवं एम.बी.ए. (बिजनेस इकॉनोमिक्स) की नेहा तिवारी  समूह  व एम.बी.ए. (एचआरडी) से शीतल शर्मा समूह को संयुक्त रूप से तृतीय प्राप्त हुआ । पोस्टर प्रस्तुतिकरण में बी कॉम से प्रिया यादव प्रथम, काजल अग्रहरी द्वितीय, एवं आस्था यादव तृतीय स्थान पर रहे । कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन डॉ मनोज मिश्र ने किया और कार्यक्रम का संचालन विश्वविद्यालय की छात्रा अभिलाषा सिंह ने किया । इस अवसर पर प्रो. मानस पाण्डेय, प्रो. अजय द्विवेदी, प्रो. वी. डी. शर्मा, डॉ. आशुतोष सिंह,  डॉ. सचिन अग्रवाल, डॉ. रसिकेश, डॉ. सुशील कुमार सिंह, डॉ. सुशील कुमार, डॉ. इन्द्रेश, डॉ.कमलेश, डॉ. अभिनव, अनुपम कुमार आदि उपस्थित रहे । कार्यक्रम की सफ़लता में छात्र कु. रिंकी, अर्पिता, अंकिता, शीतल का विशेष योगदान रहा इसके लिए उन्हे भी प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया ।  

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक