ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने जब आम ग्राहक बन कर जांचा एआरटीओ कार्यालय का सच, दलालो के भरोसे विभाग



जौनपुर। जिले में ज्वाइंट मजिस्ट्रेट (एसडीएम सदर) हिमांशु नागपाल एक कर्मचारी के साथ बाइक से अपना ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के बहाने सीधे एआरटीओ कार्यालय में लाइसेंस पटल पर पहुंच गए। उन्होंने वहां पर तैनात कर्मचारी से ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया पूछी। इस उस कर्मचारी ने उन्हें आम आदमी समझकर बाहर दुकानों पर बैठे दलाल के पास जाने को कहा।
ज्वाइंट मजिस्ट्रेट भी सच जानने के लिए दुकान पर जाने लगे। इसी बीत रास्ते में भी कई दलाल उनसे मिले और लाइसेंस बनवा देने की बात करने लगे। इतना सुनते ही ज्वाइंट मजिस्ट्रेट का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया।
उन्होंने तत्काल लाइन बाजार थाने की पुलिस को मौके पर बुलवाकर मेन गेट बंद कराकर कैंपस में मौजूद लोगों की चेकिंग और पूछताछ शुरू कर दी। दलाल डेंटल कॉलेज की तरफ से बाहर भाग निकले। कर्मचारी भी सहम गए।
इस दौरान दो संदिग्ध लोगों को पुलिस हिरासत में भेज दिया। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने कार्रवाई के संबंधित बाबू के पटल बदलने और एक वेंडर को हटाने के लिए डीएम को पत्र भेज दिया है। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट की इस कार्रवाई से एआरटीओ कार्यालय में दहशत का माहौल है।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर : सुभासपा से जफराबाद विधान सभा सीट पर चुनाव लड़ सकते है डा जेपी सिंह

सपा के घोषित 56 प्रत्याशियों की सूची में जौनपुर के इन चार सीटो के प्रत्याशी घोषित

यूपी के दस सबसे अमीर विधायक : किसी के पास 35 से ज्यादा ट्रक तो कोई चलाता है 15 लाख की बाइक,जानें माननियों की कुंडली