एसएसपी ने एक फरियादी के मासूम बेटे को अपनी कुर्सी पर बैठा कर एक दिन का बनाया एसपी


पुलिस अधीक्षक ने जब एक मासूम बच्चे को एक दिन का एसपी घोषित करते हुए अपने कुर्सी पर बैठा दिया तो बच्चे के खुशी का ठिकाना नहीं रहा वह खुशी से झूम गया। घटना प्रदेश के जनपद झांसी की है यहां पर पुलिस लाइन में उस समय एक अलग ही नजारा देखने को मिला जब फरियाद सुनाने आई सिपाही की पत्नी के बेटे को एसएसपी ने अपनी कुर्सी दे दी और 1 दिन का एसएसपी बना दिया। दरअसल उत्तर प्रदेश पुलिस में सिपाही रविंद्र यादव की पत्नी एसएसपी ऑफिस में पति के उत्पीड़न की शिकायत करने आई थी, जिस दौरान उसके बच्चे ने एसएसपी की कुर्सी पर बैठने की जिद कर दी।
झांसी के गरौठा थाने में तैनात सिपाही रविंद्र यादव की शादी 2011 में हुई थी. उनका एक बेटा सूर्यांश हैं, बेटे के साथ पति के उत्पीड़न की शिकायत करने महिला एसएसपी शिव हरी मीणा से मिलने गई थी. इसी दौरान उनका बेटा एसएसपी की कुर्सी पर बैठने के लिए मचल गया।
उसके बाद एसएसपी ने अपनी कुर्सी छोड़ कर उसे बैठाया और कहा कि आज तुम 1 दिन के एसएसपी हो. सिपाही रविंद्र की ओर से बताया जा रहा है कि उसकी पत्नी का मानसिक संतुलन ठीक नहीं है. वह नंगे पैर ही एसएसपी की गाड़ी के पीछे दौड़ने लगी थी. पत्नी ने एसएसपी शिव हरि मीणा को बताया कि उसका पति रविंद्र घर के खर्च के लिए पैसे नहीं देता है. जिसके कारण विवाद होता रहता है. एसएसपी ने मामले की जांच महिला थानाध्यक्ष को सौंप दी है. महिला कई दिनों से पुलिस ऑफिस के चक्कर लगा रही थी. जांच का आश्वासन मिलने के बाद वह वापस घर चली गई. एसएसपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस छोड़कर 1 घंटे तक उसकी बात सुनी थी।
फिलहाल छोटे से बच्चे को एसएसपी बनाए जाने की खबर आग की तरह फैल गई. बच्चा एसएसपी की कुर्सी पाकर बहुत खुश था. काफी देर तक एसएसपी बच्चे को कुर्सी पर बैठा कर खड़े रहे. एसएसपी शिव हरी मीणा ने बच्चे के सिर पर हाथ फेरा और उसके पास छोटी सी कुर्सी पर बैठ गए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर रात एक छात्रा को बंगले पर भेजो'SDM पर महिला हॉस्टल की अधीक्षीका ने लगाया 'गंदी डिमांड का आरोप; अधिकारी ने दी सफाई

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर

महज 20 रूपये के लिए रेलवे से लड़ा 22 साल मुकदमा और जीता,जानें क्या है मामला