एक लाख रुपए के इनामी तस्कर पूर्वांचल के शराब माफिया को एसटीएफ ने किया गिरफ्तार



एसटीएफ ने आज एक लाख के इनामी शराब माफिया को गिरफ्तार कर बड़ी सफलता हासिल की है। शराब माफिया सुधाकर सिंह काफी समय से फरार चल रहा था। पूर्वान्चल का ये शातिर शराब माफिया शराब के करोबार के साथ रेलवे में ट्रैफिक असिस्टेंट के पद पर भी कार्यरत है। नकली शराब की सप्लाई ढाबों, होटलों व सरकारी शराब की दुकानों पर कराता था।
बता दें कि जनपद प्रतापगढ के तत्कालीन एसपी आकाश तोमर की हिट लिस्ट में रहे पूर्वांचल का एक लाख का इनामी शराब माफिया सुधाकर सिंह को यूपी एसटीएफ ने राजधानी के महानगर इलाके से गिरफ्तार किया है। शराब माफिया सुधाकर सिंह लंबे समय से फरार था। प्रतापगढ के तत्कालीन एस पी आकाश तोमर की शराब मफियाओं के खिलाफ की गई जबरदस्त कार्यवाई के चलते शराब माफिया सुधाकर सिंह पकड़ा गया। एडीजी प्रयागराज ने इसकी गिरफ्तारी के लिये एक लाख का इनाम भी घोषित किया था। पूर्वान्चल का ये शातिर शराब माफिया शराब के करोबार के साथ रेलवे में ट्रैफिक असिस्टेंट के पद पर भी कर्यरत है। उसकी तैनाती इस समय लखनऊ एनईआर में चल रही थी। ये माफिया इन दिनों अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिये विभाग से अपनी बीमारी का बहाना बनाकर छुट्टी पर चल रहा था। 
शराब माफिया सुधाकर सिंह यूपी एसटीएफ ने इस शराब माफिया को लखनऊ के महानगर इलाके में आस्था हॉस्पिटल के पास से गिरफ्तार किया है। सुधाकर के खिलाफ कुंडा व हथिगवां में 12 मामले दर्ज हैं। ये शराब माफिया कुंडा व हथिगवां नकली शराब की फैक्टी चलाया करता था। और पूर्वांचल में अपने नेटवर्क के जरिये अपनी फैक्टरी में निर्मित नकली शराब को ढाबों होटलों व सरकारी शराब की दुकानों में सप्लाई का काम किया करता था। आईपीएस आकाश तोमर का ट्रान्सफर इटावा से प्रतापगढ हुआ था। जब उन्होंने एसपी प्रतापगढ के रूप में वहां के जिले का चार्ज संभाला था। 
शराब माफिया सुधाकर सिंह के नकली शराब बनाने का कारोबार धड़ल्ले से जारी था। तत्कालीन एसपी आकाश तोमर ने इस माफिया के खिलाफ छापेमारी की बड़ी कार्रवाईयां की थीं। हालाँकि तत्कालीन एसपी आकाश तोमर की इस कार्रवाई के दौरान ये शराब माफिया तो मौके से फरार हो गया था। लेकिन एसपी आकाश तोमर ने इसके शराब का नेटवर्क ध्वस्त कर इसकी शराब फैक्ट्री से काफी मात्रा में नकली शराब व शराब बनाने के उपकरण बरामद किए थे। तब से यह शराब माफिया फरार चल रहा था। अभी दो दिन पूर्व लखनऊ की एसटीएफ को अपने मुखबिरों से शराब माफिया सुधाकर सिंह की लखनऊ होने की सूचना मिली। इस सूचना के आधार पर एसटीएफ ने राजधानी में इसकी गिरफ्तारी को लेकर अपना जाल बिछाया। एसटीएफ के इस जाल में ये शराब माफिया फंस गया और इसे गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार इस शराब माफिया ने पूंछतांछ में एसटीएफ को बताया कि सरकारी नोकरी में रहते हुए उसने सरकारी शराब की छह दुकाने हथियाई थीं। ये दुकानें उसने अपना नाम बदलकर ली थीं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन