एमओयू के माध्यम से पीयू को मिलेगी उच्च तकनीकी - प्रो निर्मला एस.मौर्य कुलपति


जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय और  इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट स्टडीज नई दिल्ली के बीच गुरुवार को कुलपति सभागार में एमओयू पर हस्ताक्षर किया गया। इस अवसर पर कुलपति प्रोफेसर निर्मला एस. मौर्य ने कहा कि एम ओयू के माध्यम से बच्चों और फैकल्टी के साथ इंटरेक्शन होगा।  इसमें महाविद्यालय के फैकल्टी और विद्यार्थियों को भी जोड़ा जाएगा। विश्वविद्यालय एमओयू के माध्यम से उच्च तकनीकी उपलब्ध कराने का हर संभव प्रयास कर रहा है। इस संस्था का उद्देश्य इनक्यूबेशन सेंटर में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना, विद्यार्थियों के स्टार्टअप को गति देने में सहायता करना उद्यमिता के संबंध में सरकार की योजनाएं और उसके प्रोजेक्ट को कैसे बनाया जाए पर विस्तार से प्रशिक्षण देगी।
इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट स्टडीज के डायरेक्टर कमल भोला ने कहा कि पूर्वांचल की अर्थव्यवस्था में यह संस्था अतुलनीय योगदान देगी। हमारे पास 1500 बिजनेस मॉड्यूल है जो प्रतिभाग करने वाले विद्यार्थियों के लिए हमेशा उपलब्ध है। हम प्रतिभाग करने वाले विद्यार्थियों को हर टेक्निकल सपोर्ट देने की कोशिश करेंगे।
वीबीएसपीयू इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन फाउंडेशन के कार्यकारी निदेशक प्रो. अविनाश डी.पाथर्डीकर ने एम ओयू की पूरी रूपरेखा बताई।इस अवसर पर स्वागत  प्रो. राजेश शर्मा और धन्यवाद ज्ञापन प्रो. संदीप सिंह ने किया। असिस्टेंट मैनेजर बिजनेस डेवलपमेंट भी उपस्थित थे।
इस अवसर पर कुलसचिव महेंद्र कुमार, प्रो.बीबी तिवारी, प्रो.मानस पांडेय, प्रो. वंदना राय, प्रो. रामनारायण, प्रो. अशोक कुमार श्रीवास्तव, प्रो. देवराज सिंह, प्रो. रजनीश भास्कर, प्रो. सौरभ पाल, डॉ. मनोज मिश्र, डॉ. प्रमोद कुमार यादवा, डॉ. रसिकेश, डॉ. आशुतोष सिंह, डा. संजीव गंगवार, डॉ. गिरधर मिश्र, डॉ. मनीष कुमार सिंह, डॉ. सुनील कुमार, डॉ विनय वर्मा, सहायक कुलसचिव बबीता सिंह अमृत लाल पटेल, डॉ. नीतेश जायसवाल, डॉ. सुशील कुमार, डॉ. राजीव कुमार, डॉ. अमित वत्स, डॉ. पीके कौशिक आदि उपस्थित थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर रात एक छात्रा को बंगले पर भेजो'SDM पर महिला हॉस्टल की अधीक्षीका ने लगाया 'गंदी डिमांड का आरोप; अधिकारी ने दी सफाई

यूपी कैबिनेट की बैठक में जौनपुर की इस नगर पालिका के विस्तार का प्रस्ताव स्वीकृत

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर