स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट: डेंगू के मामले में पूर्वांचल के जिलो में सबसे खराब स्थिति जौनपुर की


जौनपुर। पूर्वांचल के जिलों में सबके खराब हालत डेंगू के मामले में जौनपुर की ही है। अब तक 390 मरीजों की पुष्टि हुई है। प्रदेश के अन्दर डेंगू के सर्वाधिक मरीजों वाले जनपदों में जौनपुर छठवें नंबर पर है। 12 अगस्त को बदलापुर में पहला डेंगू का मरीज मिला था। उसके बाद से कस्बे में डेेंगू का लार्वा नष्ट कराने का अभियान चलाया गया लेकिन मरीजों की संख्या पर काबू नही हो पाया। डेंगू के चलते जनपद के लगभग दो दर्जन परिवारो में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है। सरकारी व्यवस्थायें नाकाफी साबित हो रही है।
मिली खबर के मुताबिक बदलापुर सीएचसी में होने वाली जांच में प्रतिदिन 15-20 मरीज मिलते थे। स्वास्थ्य विभाग विभाग ने कुल 13 हजार 554 लोगों की डेंगू की जांच कराई। इसमें प्राथमिक जांच में 1726 लोगों में डेंगू के लक्षण मिले। बीएचयू में एलाइजा जांच में 390 मरीजों के डेंगू की पुष्टि हुई।
प्रयागराज को छोड़कर आसपास के किसी जनपद में इतने मरीज नहीं मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों में अब तक किसी की मौत नहीं हुई है लेकिन दो दर्जन लोगों के परिजनों ने डेंगू से मौत का दावा किया है। मीरगंज क्षेत्र के बामी गांव में शुक्रवार को शैलेश पाल (18) की मौत हो गई। परिवार वालों का कहना है कि युवक की मौत डेंगू से हुई है। वह एक सप्ताह पहले मुंबई से गांव आया था।
स्वास्थ्य विभाग से जारी रिपोर्ट के अनुसार लखनऊ में सर्वाधिक 1740 मरीज मिले हैं। दूसरे नंबर पर प्रयागराज है। यहां 1611 केस मिल चुके हैं। तीसरे पर अयोध्या, चौथे पर गाजियाबाद ओर पांचवें पर कानपुर है। छठवें नंबर पर जौनपुर है, जहां 390 मरीज पाए गए हैं।
संचारी रोगों के प्रसार को देखते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष श्री कला रेड्डी ने डेंगू रोकथाम के लिए अभियान की शुरूआत की है। खुटहन, पट्टीनरेंद्रपुर, पटियाला, विशुनपुर, पिलखिनी नई बाजार, पीलखिनी गांव, दिहिया गांव, पिलखिनी पुरानी बाजार आदि स्थानों पर एंटी लार्वा दवा का छिड़काव कराया गया है। अपर मुख्य अधिकारी के अनुसार जहां डेंगू के मामले ज्यादा हैं, वहां ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है।
जिला मलेरिया अधिकारी वीपी सिंह ने कहा कि जौनपुर जिले में डेंगू के मरीज पहले की तुलना में कम मिल रहे हैं। यहां 390 मरीज मिल चुके हैं। सभी इलाकों में एंटी लार्वा का छिड़काव कराया जा रहा है। लोगों को सलाह दी गई है कि पूरी बांह का कपड़ा पहनें। अधिकारी दावा चाहे जो करें लेकिन भौतिक धरातल पर ऐसा कुछ भी नजर नहीं आ रहा है कि अधिकारी के दावों पर विश्वास किया जा सके।
जिला अस्पताल में डेंगू के मरीजो की व्यवस्था और दवाओ की स्थिति जानने जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा आज अचानक पहुंचे वहां व्यवस्था देख नाराजगी व्यक्त किया और स्वास्थ्य विभाग को कड़ी फटकार लगायी। इससे इतना तो स्पष्ट संकेत है कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से डेंगू मरीजो को लेकर लापरवाहियां बरती जा रही है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

पुलिस मुठभेड़ में मारे गए बदमाशो का शव उनके पिता ने लेने से किया इनकार जानें कारण

गुरूजी को अपनी छात्रा से लगा प्रेम रोग तो अब पहुंच गए सलाखों के पीछे,थाने में हुआ एफआइआर दर्ज

पुलिस मुठभेड़ में दो सगे भाई बदमाश मारे गये एक फरार जिसकी तलाश जारी है